Saturday, October 16, 2021
Home उत्तराखंड चिंताजनक: पिछले 3 सालों में स्तन कैंसर के मरीजों में 30 फीसदी...

चिंताजनक: पिछले 3 सालों में स्तन कैंसर के मरीजों में 30 फीसदी बढ़ोत्तरी

 

 

विशेषज्ञों ने महिलाओं को स्तन कैंसर को लेकर जागरूक करने पर दिया है जोर

एम्स में अब नई तकनीक से होगी ब्रेस्ट कैंसर की जांच

सत्येंद्र सिंह चौहान
ऋषिकेश, 11 सितंबर।
महिलाओं की आम बीमारी में शामिल ब्रेस्ट कैंसर के मामले देश में साल दर साल बढ़ रहे हैं। एम्स ऋषिकेश स्थित आईबीसीसी ओपीडी में पिछले 3 वर्षों के दौरान ब्रेस्ट कैंसर के मरीजों में 30 प्रतिशत से अधिक की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। चिंता की बात यह है कि इस बीमारी के प्रति महिलाओं में जागरुकता की कमी के कारण ब्रेस्ट कैंसर अब कम उम्र की महिलाओं को भी अपनी चपेट में ले रहा है। विशेषज्ञ चिकित्सकों ने इस मामले में महिलाओं से जागरुक रहने और जनजागरुकता मुहिम चलाने पर जोर दिया है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में महिलाओं में कैंसर से होने वाली कुल मौतों में 21 फीसदी से अधिक मौतें ब्रेस्ट कैंसर के कारण होती हैं। समय रहते इसके लक्षणों में ध्यान नहीं देने और जागरुकता की कमी के चलते महिलाओं को इसका पता चलने तक कैंसर घातक रूप ले चुका होता है। एम्स ऋषिकेश के “एकीकृत स्तन उपचार केंद्र“ के आंकड़ों के मुताबिक उत्तराखंड और आस-पास के राज्यों में स्तन कैंसर के मरीजों में साल दर साल बढ़ोत्तरी हो रही है। वर्ष 2019 में संस्थान की ब्रेस्ट कैंसर ओपीडी में 1233 मरीज पंजीकृत किए गए थे। जबकि वर्ष 2020 में मरीजों की यह संख्या बढ़कर 1600 हो गई। जबकि साइ साल वर्ष 2021 में सितम्बर माह के पहले सप्ताह तक एम्स ऋषिकेश में ब्रेस्ट कैंसर के 2000 मरीज आ चुके हैं। चिकित्सकों का कहना है कि पहले यह बीमारी अधिकांशतः 40 से 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में होती थी। लेकिन अब यह कम उम्र की महिलाओं को भी अपनी चपेट में ले रही है। एम्स में उपचार करा रहे मरीजों में कई मरीज ऐसे हैं जिनकी उम्र महज 18 से 25 वर्ष है।

निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि इलाज में देरी और बीमारी को छिपाने से ब्रेस्ट कैंसर जानलेवा साबित होता है। उन्होंने बताया कि महिलाएं अक्सर इस बीमारी के प्रति जागरुक नहीं रहतीं। जागरुकता के अभाव में औसतन 8 में से एक महिला इस बीमारी से ग्रसित हो जाती है। उन्होंने बताया कि सूचना और संचार के इस युग में महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति विशेष जागरुक रहने की नितांत आवश्यकता है।
एम्स के ’एकीकृत स्तन उपचार केंद्र’ की चेयरपर्सन व संस्थान की वरिष्ठ शल्य चिकित्सक प्रोफेसर बीना रवि ने बताया कि एम्स ऋषिकेश में ब्रेस्ट कैंसर के उपचार की सभी विश्वस्तरीय आधुनिकतम सुविधाएं उपलब्ध हैं। इसके लिए संस्थान में ’एकीकृत स्तन उपचार केंद्र’ विशेष तौर से विकसित किया गया है। यहां इस बीमारी से संबंधित सभी जाचें और इलाज विशेषज्ञ चिकित्सकों द्वारा एक ही स्थान पर उपलब्ध कराया जाता है। प्रो. बीना रवि ने बताया कि इस केंद्र में इस बीमारी की सघनता से जांच कर बेहतर उपचार की सुविधा उपलब्ध है।

ब्रेस्ट कैंसर के लक्षण-
स्तन में या बगल में गांठ का उभरना, स्तन का रंग लाल होना, स्तन से खून जैसा द्रव बहना, स्तन पर डिंपल बनना, स्तन का सिकुड़ जाना अथवा उसमें जलन पैदा होना, पीठ अथवा रीढ़ की हड्डी में दर्द की शिकायत रहना।

एम्स में अब नई तकनीक से होगी ब्रेस्ट कैंसर की जांच
एकीकृत स्तन उपचार केंद्र आईबीसीसी के असिस्टेंट प्रोेफेसर डॉ. प्रतीक शारदा ने बताया कि एकीकृत ब्रेस्ट कैंसर विभाग में ’वैक्यूम असिस्टेड ब्रेस्ट बायोप्सी’ नई मशीन स्थापित की गई है। यह मशीन स्तन में उभरे गांठ को निकालने में विशेष सहायक है और अति आधुनिक उच्चस्तरीय तकनीक की है। इस मशीन की सुविधा से अब मरीज को ऑपरेशन थिएटर में ले जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती है। उन्होंने बताया कि आईबीबीसी ओपीडी में स्थापना से आज तक लगभग 12 हजार से अधिक मरीजों का परीक्षण एवं उपचार किया जा चुका है।

RELATED ARTICLES

शहीदों के पार्थिव शरीर पहुंचे जॉलीग्रांट एयरपोर्ट, कैबिनेट मंत्री ने दी श्रद्धांजलि

देहरादून। जम्मू-कश्मीर के पुंछ में आतंकी हमले में उत्तराखंड के शहीद जवानों के पार्थिव शरीर हवाई जहाज से जॉलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंच चुके हैं। ऐसे...

पेयजल ठेका कर्मचारियों की हड़ताल से खड़ा हुआ पानी का संकट

सबसे ज्यादा असर कुमांऊ मंडल में देहरादून। नैनीताल में अपनी 5 सूत्री मांगों को लेकर जल संस्थान के ठेका कार्य कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले...

माउंटेनियर्स और ट्रैकर्स के लिए रिस्टबैंड की व्यवस्था करने के मुख्य सचिव ने दिए निर्देश

देहरादून। मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु ने सचिवालय में पर्यटन विभाग की समीक्षा के दौरान अधिकारियों को निर्देश दिए कि माउंटेनियर्स और ट्रैकर्स के...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

गंगनहर को किया बंद, दीपावली पर छोड़ा जाएगा पानी

हरिद्वार। धर्मनगरी हरिद्वार से कानपुर तक जाने वाली उत्तर प्रदेश सिंचाई विभाग की गंगनहर को बीते रात से बंद कर दिया गया है। अब...

शहीदों के पार्थिव शरीर पहुंचे जॉलीग्रांट एयरपोर्ट, कैबिनेट मंत्री ने दी श्रद्धांजलि

देहरादून। जम्मू-कश्मीर के पुंछ में आतंकी हमले में उत्तराखंड के शहीद जवानों के पार्थिव शरीर हवाई जहाज से जॉलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंच चुके हैं। ऐसे...

भाजपा-कांग्रेस में चुनावी दांवपेंच की राजनीति शुरू

देहरादून। यशपाल आर्य की वापसी के बाद कांग्रेस और भाजपा में चुनावी दावपेंच की राजनीति शुरू हो गयी है। उत्तराखंड में कैबिनेट मंत्री हरक...

आईटीवीपी की पासिंग आउट परेड संपन्न, 38 जांबाज अफसरों ने ली शपथ

देहरादून। भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस अकादमी में 24 सप्ताह के कठोर प्रशिक्षण के बाद 38 असिस्टेंट कमांडेंट मेडिकल ऑफिसर के रूप में भारतीय तिब्बत...

शुभ प्रभात: जानिए, क्या कहते हैं आज़ आपके भाग्य के सितारे

आज़ का राशिफल: शनिवार, 16 अक्टूबर 2021 मेष (Aries)- आज के दिन ऊर्जावान रहते हुए, महत्वपूर्ण कामों में फोकस करें. कार्य में रुकावट मन को विचलित कर...

दशहरा पर हरिद्वार में नागा साधुओं ने किया शस्त्र पूजन

भैरव प्रकाश और सूर्य प्रकाश भालों का हुआ पूजन कुंभ में पेशवाई के आगे रहते हैं देव रूपी दोनों भाले हरिद्वार। आज दशहरा है। दशहरे के...

विसर्जन के साथ दुर्गा महोत्सव का समापन

भाव-विह्वल हुए भक्त अल्मोड़ा। सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा में दुर्गा महोत्सव का समापन हो गया है। 9 दिनों तक चले दुर्गा महोत्सव के बाद आज भव्य...

पेयजल ठेका कर्मचारियों की हड़ताल से खड़ा हुआ पानी का संकट

सबसे ज्यादा असर कुमांऊ मंडल में देहरादून। नैनीताल में अपनी 5 सूत्री मांगों को लेकर जल संस्थान के ठेका कार्य कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले...

22 नवंबर को बंद होंगे द्वितीय केदार श्री मध्यमहेश्वर के कपाट

तुंगनाथ के कपाट 30 अक्टूबर को होंगे बंद रुद्रप्रयाग। पंच केदारों के कपाट बंद होने की तिथियां घोषित हो गई हैं। द्वितीय केदार श्री मध्यमहेश्वर...

चारोंधाम के कपाट शीत कालीन के लिए बंद करने के लिए तिथि घोषित

6 नवंबर को बंद होंगे बाबा केदार व यमुनोत्री धाम के कपाट गंगोत्री के कपाट 5 नवंबर को बंद होंगे 20 नवंबर को संपन्न होगी बदरीनाथ...