Home उत्तराखंड Welldone SDRF: पैंग, रैणी और तपोवन में एसडीआरएफ ने मैन्युअली अर्ली वार्निंग...

Welldone SDRF: पैंग, रैणी और तपोवन में एसडीआरएफ ने मैन्युअली अर्ली वार्निंग सिस्टम किया विकसित

69
0

 

संवाददाता
चमोली, 13 फरवरी।
ऋषिगंगा के मुहाने पर बनी झील के पानी से फिलहाल भले ही कोई खतरा न हो, लेकिन राज्य आपदा प्रतिवादन बल उत्तराखंड एसडीआरएफ सतर्कता बरत रही है।
पैंग, तपोवन व रैणी में एसडीआरएफ की एक-एक टीम तैनात की गई है। दूरबीन, सैटेलाइट फोन व पीए सिस्टम से लैस एसडीआरएफ की टीमें किसी भी आपातकालीन स्थिति में आसपास के गांव के साथ जोशीमठ तक के क्षेत्र को सतर्क कर देंगी।

रिद्धिम अग्रवाल, अपर मुख्य कार्यकारी अधिकारी, आपदा प्रबंधन प्राधिकरण उत्तराखंड एवं डीआई एसडीआरएफ ने बताया कि एसडीआरफ की टीमें लगातार सैटेलाइट फोन के माध्यम से सम्पर्क में है। जिनके द्वारा जलभराव क्षेत्र का निरीक्षण किया गया जहां झील बनी है इससे फिलहाल खतरा नही है। यदि किसी भी प्रकार से जल स्तर बढ़ता है तो ये अर्ली वार्निंग एसडीआरफ की टीमें तत्काल ही संभावित प्रभावित क्षेत्र को इसकी सूचना प्रेषित करेगी।

 

इस अलर्ट सिस्टम से ऐसी स्थिति में नदी के आस पास के इलाकों को 5 से 7 मिनट में तुरंत खाली कराया जा सकता है। एसडीआरफ के दलों ने रैणी गांव से ऊपर के गांव के प्रधानों से भी समन्वय स्थापित किया है। जल्द ही दो तीन दिनों में आपदा प्रभावित क्षेत्रों में अर्ली वार्निंग सिस्टम लगा दिया जाएगा जिससे पानी का स्तर डेंजर लेवल पर पहुंचने पर आम जनमानस को सायरन के बजने से खतरे की सूचना मिल जाएगी।इस बारे में एसडीआरफ की ये टीमें ग्रामीणों को जागरूक भी कर रही है।