Home उत्तराखंड मातृशक्ति: औऱ बनी रही महिलाओं के चेहरे पर मुस्कान, कुछ नया सीखने...

मातृशक्ति: औऱ बनी रही महिलाओं के चेहरे पर मुस्कान, कुछ नया सीखने को मिला, बोली महिलाएं

239
0

संवाददाता
देहरादून, 15 फरवरी।

हिंसा के अंधियारे से आशा के उजियारे तक कार्यक्रम में महिलाओं के चेहरे पर मुस्कान बनी रही। वहीं महिलाएं बोलीं कि इस बार कुछ नया सीखने को मिला।


विकासनगर स्थित ब्लॉक सभागार में घरेलू हिंसा पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर मुख्य अतिथि ब्लॉक प्रमुख सरदार जसविंदर सिंह ने कहा कि जिस तरह से आज यहां महिलाओं ने अपने ऊपर होने वाली हिंसा को लेकर खुद सामने बात रखी, उससे साफ दिख रहा है कि महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग की ये पहल सार्थक हो रही है। कहा कि जहाँ भी सहयोग की जरूरत होगी वहाँ मैं आपके साथ खड़ा हूँ। सीडीपीओ तरुणा चमोला ने कहा कि किसी भी क्षेत्र में घरेलू हिंसा होने पर सबसे पहले जानकारी आंगनबाड़ी वर्कर्स को हो मिलती है, ऐसे में आप लोग हमेशा की तरह सचेत रहें।

इस मौके पर महिला शक्ति केंद्र की जिला समन्वयक वैभवी डोरा ने वन स्टॉप सेंटर, महिला एवम चाइल्ड हेल्पलाइन नंबर्स की बारे में जानकारी दी। वन स्टॉप सेंटर की अधिवक्ता फिरदौस अली ने घरेलू हिंसा अधिनियम और पोक्सो अधिनियम की जानकारी दी। कार्यक्रम में प्रधान संगठन के अध्यक्ष नरेंद्र तोमर ने भी महिला अधिकारों के बारे में बताए। इंस्पिरेशन पीआर एन इवेंट्स की ओनर की ओर से कार्यक्रम का कुशल संचालन किया गया। साक्षी पोखरियाल ने भी व्यवस्था संभाली। कार्यक्रम में आंगनबाड़ी वर्कर्स के साथ ही सुपरवाइज़र भी उपस्थित रहे।