Home Home शहादतः शहीद राकेश डोभाल की अंतिम यात्रा में उमड़ा लोगों का हुजूम

शहादतः शहीद राकेश डोभाल की अंतिम यात्रा में उमड़ा लोगों का हुजूम

18
0

संवाददाता
ऋषिकेश, 16 नवंबर। जम्मू में पाकिस्तान की गोलाबारी में शहीद हुए ऋषिकेश के राकेश डोभाल आज पंचतत्व में विलीन हो गये। तीर्थनगरी ने अपने बेटे को सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी। तीर्थनगरी के लाल को विदा करने के लिए सैंकड़ों लोग उनकी शवयात्रा में शामिल हुए। इस दौरान शहीद की दस साल की बेटी ने वहां पर मौजूद बीएसएफ के अधिकारियों और जवानों के साथ देशभक्ति के नारे लगवाये।


जम्मू कश्मीर के बारामुला क्षेत्र में शुक्रवार को पाकिस्तान की ओर से की गई गोलाबारी के दौरान बीएसएफ के सब इंस्पेक्टर राकेश डोभाल शहीद हो गये। उनका पार्थिव शरीर आज ऋषिकेश पहुंचा। शहीद के पार्थिव शरीर के आने की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में लोग उनके आवास पर एकत्र होने लग गये थे। सुबह आठ बजे बीएसएफ के अधिकारी शहीद राकेश डोभाल का पार्थिव शरीर लेकर उनके आवास पर पहुंचे। शहीद का पार्थिव शरीर देखकर मां विमला देवी व पत्नी संतोषी बेसुध हो गई। शहीद राकेश डोभाल की 10 वर्षीय पुत्री दित्य उर्फ मौली ने जय हिंद का नारा लगाकर पिता को सैल्यूट किया। इस दौरान मौली बीएसएफ के अधिकारियों से लिपट गई तो उनकी आंखे भी नम हो गई।


सुबह साढ़े नौ बजे शहीद की अंतिम यात्रा शुरू हुई। खराब मौसम और भाईदूज के त्योहार के बावजूद शहीद की अंतिम यात्रा में लोगों को हुजूम उमड़ रहा था। अंतिम यात्रा के दौरन पूरे रास्ते वीर राकेश डोभाल के जिंदाबाद और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाते हुए साथ चल रहे थे। उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल शहीद डोभाल की शवयात्रा में शामिल हुए। गंगा नगर स्थित आवास से पूर्णानंद घाट मुनी की रेती में शहीद का सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।