Home अपराध सफलता: ऋषिकेश में शातिर चोर पुलिस गिरफ़्तार, चोरी की 6 बाइक बरामद

सफलता: ऋषिकेश में शातिर चोर पुलिस गिरफ़्तार, चोरी की 6 बाइक बरामद

111
0

अमित कुमार

ऋषिकेश 19 जनवरी।

कोतवाली पुलिस ने चोरी की 06 मोटरसाइकिलों के साथ एक शातिर को गिरफ्तार किया है। जबकि उसका एक साथी फरार है।
कोतवाली पुलिस के मुताबिक पिछले एक सप्ताह से क्षेत्र में बाइक चोरी होने की शिकायतें आ रही थी। जिसपर पुलिस ने शहर के 32 सीसीटीवी कैमरे चेक किये। इसके साथ ही पूर्व में बाइक चोरी में जेल गए 12 अपराधियों का भौतिक सत्यापन किया। सीसीटीवी फुटेज व पुराने अपराधियों के सत्यापन से जानकारी मिली कि थाना रायवाला से नीतिश तोमर उर्फ निक्कू तोमर नाम का व्यक्ति बाइक चोरी के आरोप में जेल गया था और वर्तमान में वह अपने एक साथी के साथ बाइक चोरी कर रहा है। इस पर पुलिस ने निक्कू तोमर की तलाश तेज की।
पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि निक्कू तोमर बिना नंबर प्लेट की बाइक में श्यामपुर से ऋषिकेश की ओर जा रहा है। जिस पर पुलिस टीम में मनसा देवी फाटक के पास निक्कू की मोटरसाइकिल रोककर पूछताछ की। उसने बताया कि यह बाइक मैंने अपने साथी रोहित के साथ डिग्री कॉलेज के पास से चोरी की और बाकी मोटरसाइकिलें हमने छुपा रखी हैं। पुलिस ने निक्कू के बताएं ठिकाने से अन्य 6 मोटरसाइकिल बरामद की है।
कोतवाल रितेश साह ने बताया कि नीतिश कुमार पुत्र कृष्णपाल निवासी आजाद नगर, दौघट, बड़ौत, उत्तर प्रदेश हाल निवासी भट्ठोवाला, श्यामपुर के खिलाफ संबंधी धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। साथ ही पुलिस रोहित पुत्र सुखराम पाल निवासी लौढा, बड़ौत, उत्तर प्रदेश की तलाश में जुटी है। बताया कि आरोपी नीतीश तोमर के खिलाफ दिल्ली, उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के थानों में लगभग 10 मुकदमे दर्ज होने की जानकारी मिली है।

पुलिस के मुताबिक पूछताछ में आरोपी ने बताया कि रुपयों की तंगी के चलते उसने पहले भी रायवाला क्षेत्र से बाइक चोरी की थी। जिसमें वह जेल भी गया था। वर्तमान में उसे रुपयों की ज्यादा जरूरत पड़ रही थी। इस कारण उसने अपने अन्य साथी रोहित के साथ मिलकर बाइक चोरी की योजना बनाई। योजना के तहतदोनों मुख्य घाट, बाजार आदि स्थानों पर खड़ी ऐसी बाइक को चेक करते थे, जिसका लॉक किसी भी चाबी से आसानी से खुल सके और हम उसे चोरी कर ले जाएं। दोनों ने मिलकर श्यामपुर, आईडीपीएल, ऋषिकेश, हरिद्वार क्षेत्र से लगभग एक दर्जन बाइक चोरी की हैं। जिनमें से इन छह को हमने खांड गांव के पास जंगल में छुपा दिया था ताकि मौका पाकर इन्हें अपने क्षेत्र में भेजकर बेच सकें। इसके अलावा कुछ मोटरसाइकिल रोहित ने बेच दी हैं।