Home अपराध आरोप: पत्नी पर रखता था गलत नजर, उतारा मौत के घाट

आरोप: पत्नी पर रखता था गलत नजर, उतारा मौत के घाट

370
0

अमित कुमार

ऋषिकेश, 24 जनवरी।

15 जनवरी से लापता चल रहे व्यक्ति के मामले का खुलासा करते हुए पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के अनुसार किया गया कि उन्होंने उस व्यक्ति की हत्या कर दी है। शव को बिजनौर जिले में ले जाकर जला दिया गया है। इस हत्या की वजह आरोपियों में से एक पत्नी पर गलत नजर रखनी बताई जा रही है। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त महिंद्रा जायलो वाहन के साथ ही गुमशुदा व्यक्ति की स्कूटी भी बरामद कर ली। देहरादून के एसएसपी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने आज पत्रकार वार्ता के दौरान इस हत्याकांड का खुलासा किया।
पुलिस के मुताबिक मायाकुंड ऋषिकेश निवासी रुपेश गुप्ता ने थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि उनके पिता राजकुमार गुप्ता दिन के समय अपनी स्कूटी से घर से निकले लेकिन वापस नहीं आए। उन्होंने रिश्तेदारो के यहां उनकी तलाश की, लेकिन कोई पता नहीं चल सका। इस संबंध में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच के लिए चार अलग अलग टीमें गठित की।
राजकुमार के साथ दिखा संदिग्ध
पुलिस टीम ने घटना स्थल, निजी सस्थानो, दुकानों, घरों के बाहर लगे लगभग 55 सीसीटीवी कैमरो को चेक किया। सीसीटीवी फुटेज में दिखा कि राजकुमार गुप्ता अपने घर से अपनी स्कूटी से अकेले मंडी तिराहा होते हुए काले की ढाल से नंदू फार्म तक तथा नंदू फार्म तक गए। इसके बाद एक अन्य व्यक्ति के साथ सोमेश्वर नगर की तरफ जाते दिखाई दिए। पुलिस ने उक्त व्यक्ति की पहचान सुरेश चौधरी निवासी बापू ग्राम के रूप में की।
आरोपियों ने बताया कि शव जला दिया
सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस टीम ने सुरेश चौधरी की तलाश के लिए उसके निवास स्थान पर दबिश दी। उसके घर पर दो अन्य व्यक्ति मौजूद मिले। वहीं, जायलो वाहन भी मिल गया। इस पर तीनों को थाने ले जाकर पूछताछ की तो उन्होंने सच्चाई उगल दी। बताया कि राजकुमार गुप्ता की हत्या कर शव को जनपद बिजनौर क्षेत्र के मण्डावर इलाके में जला दिया। इन आरोपियों की बात की पुष्टि के लिए पुलिस ने मंडावर थाने से संपर्क किया। इस पर पता चला कि 16 जनवरी 2021 को पुलिस को एक अधजला शव बरामद हुआ था। शिनाख्त न होने पर उसका अंतिम संस्कार 19 जनवरी को मंडावर पुलिस ने कर दिया। उनकी निशानदेही पर पुलिस टीम ने मृतक की स्कूटी भी बरामद कर ली।


इन्हें किया गिरफ्तार
-सुरेश चौधरी पुत्र स्व. मुंशी राम निवासी ग्राम गुरदासपुर, थाना स्योहारा, जिला बिजनौर, हाल निवासी सुमनविहार, बापूग्राम आईडीपीएल, ऋषिकेश।
– इन्द्रपाल सिंह उर्फ पप्पू, पुत्र जयपाल सिंह निवासी ग्राम गुरदासपुर, थाना स्योहारा, जिला बिजनौर हाल पता छाबरा फार्म, मंसा देवी श्यामपुर ऋषिकेश। -राजकुमार पुत्र स्व. बापूराम निवासी शक्तिनगर, चक्कर रोड, कोतवाली शहर जिला बिजनौर।
आरोपी सुरेश ने ये बताई कहानी
पुलिस के मुताबिक मुख्य आरोपी सुरेश ने बताया गया कि राजकुमार गुप्ता ब्याज पर रुपये देने का काम करता था। दो साल पहले सुरेश ने उससे बेटी नेहा के विवाह के लिए छह लाख रुपये ब्याज पर लिए थे। वह किश्तों को लगातार दे रहा था। इसके बावजूद राजकुमार की ओर से और पैसों के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा था। सुरेश के मुताबिक राजकुमार गुप्ता उसकी पत्नी पर गलत निगाह रखता था। 02 जनवरी को वह अचानक घर पहुंचा तो देखा कि उसकी अनुपस्थिति में वह उसके घर पर है। इस पर उसने राजकुमार गुप्ता की हत्या करने का मन बना लिया था। हत्या को अंजाम देने के लिए सुरेश ने अपने भतीजे पप्पू उर्फ इन्द्रपाल व अपने एक अन्य रिश्तेदार राजकुमार निवासी बिजनौर को अपनी योजना के बारे में अवगत कराते हुए उन्हें इसमें शामिल कर लिया। साथ ही हत्या में सहयोग के लिए दोनो को एक-एक लाख रुपये देने की बात भी की। इस पर दोनो राजी हो गए और घटना वाले दिन 15 जनवरी को जब रोज की तरह राजकुमार गुप्ता अपनी स्कूटी से बापूग्राम की तरफ आ रहा था तो सुरेश ने उसे रास्ते में रोका। उसने कहा कि उसके पैसे के साथ ही उसके लिए एक लड़की का इन्तजाम किया है।
 उसने राजकुमार को साथ चलने को कहा। वह भी तैयार हो गया। इसके बाद वह राजकुमार को उसकी स्कूटी में पीछे बैठाकर सोमेश्वर नगर होते हुए बायपास स्थित स्मृति वन के अन्दर जंगल में ले गया। जहां पर पहले से उसके साथी राजकुमार व इन्द्रपाल गाडी में मौजूद थे। इन तीनों ने जंगल में रस्सी से गला घोंटकर राजकुमार गुप्ता की हत्या कर दी। इसके अगले दिन शव को ठिकाने लगाने के लिए महेन्द्रा जायलो वाहन से ले गए। श्यामपुर फाटक के पास पुलिस की चेंकिंग से बचने के लिए उन्हें वाहन खैरी श्यामपुर के कच्चे रास्ते से होते हुए मंडावर बिजनौर ले जाना पडा। बिजनौर में इनामपुर रजवाहे के पास एक एकांत स्थान पर उन्होंने राजकुमार गुप्ता के शव को पैट्रोल डालकर जला दिया।
खुलासा करने वाली पुलिस टीम में ये रहे शामिल
– रितेश शाह, प्रभारी निरीक्षक ऋषिकेश
-ओमकान्त भूषण, व0उ0नि0 ऋषिकेश
-उप निरीक्षक सतेन्द्र भाटी
-कांस्टेबल नवनीत सिंह , कांस्टेबल मनोज कुमार, कांस्टेबल प्रवीण संधु, कांस्टेबल सदीप छाबडी, कांस्टेबल नीरज।