Home उत्तराखंड नज़रिया: हरदा ने विकास प्राधिकरणों को बताया नोट छापने की मशीन, विधानसभा...

नज़रिया: हरदा ने विकास प्राधिकरणों को बताया नोट छापने की मशीन, विधानसभा में चर्चा कराने की उठाई मांग

128
0
संवाददाता
नैनीताल- पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव  हरदा यानी हरीश रावत ने प्रदेश में मौजूद विकास प्राधिकरणों की कार्यशैली पर तल्ख प्रतिक्रिया दी है। यहां तक कि उन्होंने प्राधिकरणों को नोट छापने की  मशीन बता दिया। सत्ता से बाहर हो जाने के बाद भी अपनी निरंतर सक्रियता को लेकर आए दिन सुर्खियों में रहने वाले हरदा प्रदेश सरकार पर  उसके कामकाज को लेकर तंज कसने का कोई मौका नहीं छोड़ते। अपने कुमाऊं भ्रमण के दौरान नैनीताल पहुँचे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि   गरीबों को तो खिड़की लगाने के लिए भी अनुमति नहीं मिलती, जबकि साधन संपन्न और रसूखदारों के भवनों की मंजिलें दिनोंदिन बढ़ती जा रही हैं।  गुरुवार को यहां मल्लीताल स्थित नैनीताल क्लब में मीडिया को संबोधित करते हुए पूर्व सीएम हरीश रावत ने इस मुद्दे को लेकर विधानसभा में विस्तृत चर्चा कराने और निर्णय लेने की मांग की। 
 पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सीमांत क्षेत्रों में हो रहे भूस्खलन को 2013 की केदारनाथ आपदा की पुनरावृत्ति करार दिया। उन्होंने कहा  कि समय रहते यदि क्षेत्र का विशेषज्ञों द्वारा विस्तृत अध्ययन करवाकर कारणों की जांच नहीं की गई तो परिणाम और भी भयावह हो सकते हैं।
  उन्होंने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भाजपा सरकार की नीतियां त्रिस्तरीय पंचायती संस्थाओं के लिए दमनकारी साबित हो रही हैं। उन्होंने मांग की कि ग्राम पंचायतों को त्रिस्तरीय पंचायती सिस्टम को मजबूती देने के लिए उन्हें बजट उपलब्ध कराया जाए।
   इस मौके पर उन्होंने मनु महारानी और अमतुल स्कूल के कर्मचारियों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं भी सुनींं। संस्थान प्रबंधन द्वारा कर्मचारियों की सेवा समाप्त करने के निर्णय की निंदा करते हुए उन्होंने जिलाधिकारी से इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने की अपील की। 
इस अवसर पर पूर्व विधायक व महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष सरिता आर्य, पालिकाध्यक्ष सचिन नेगी, नगर अध्यक्ष अनुपम कबडवाल, वरिष्ठ कांग्रेसी हेम आर्य, वरिष्ठ कांग्रेसी नेेता रमेश पांडे, मारुति नंदन साह, नारायण सिंह पाल, खष्टी बिष्ट, धीरज बिष्ट, कैलाश अधिकारी,सभासद पुष्कर बोरा, सभासद निर्मला चंद्रा, जेके शर्मा, कृष्णा साह, धीरज आर्य, मोहमद जुनैद, अरविंद ब्यास व पवन जाटव आदि  कार्यकर्ता मौजूद रहे।