Home उत्तराखंड ​आक्रोश:  चट्टान का ट्रीटमेंट न करने पर गुस्साए लोगों ने बंद कराया...

​आक्रोश:  चट्टान का ट्रीटमेंट न करने पर गुस्साए लोगों ने बंद कराया मिक्सिंग व क्रेशर प्लांट 

198
0
कल खाड़ी बाजार में  टूट कर गिरी थी चट्टान
संवाददाता
नरेंद्रनगर- खाड़ी बाजार में भारी चट्टान गिरने से लोगों का गुस्सा ऑल वेदर रोड निर्माण कंपनी पर फूटा है। उल्लेखनीय है कि खाड़ी बाजार में ऑल वेदर रोड निर्माण कार्य में लापरवाही के कारण एक भारी चट्टान बुरी तरह हिल चुकी है जिसका एक हिस्सा कल बाजार में जाकर गिरा था। स्थानीय लोगों ने इस चट्टान के लिए ट्रीटमेंट की बात करते हुए लोगों की सुरक्षा की मांग की। मगर अभी तक ऑल वेदर रोड निर्माण कंपनी अथवा बीआरओ के द्वारा लोगों की चट्टान से कैसे सुरक्षा हो, इस दिशा में किसी भी तरह का कार्य प्रारंभ नहीं किया गया है।
चट्टान से खाड़ी बाज़ार और आसपास के लोगों को भारी खतरा है और चट्टान से लोगों की सुरक्षा के लिए किसी तरह के इंतजाम नहीं किए जाने से स्थानीय लोगों का गुस्सा ऑल वेदर रोड निर्माण कंपनी और बीआरओ के खिलाफ भड़क उठा है। खाड़ी बाजार के ऊपर लोगों की जिंदगी पर भारी पड़ती जा रही दरकती चट्टान से लोगों की सुरक्षा के उपाय ऑल वेदर रोड कंपनी तथा बीआरओ द्वारा न किए जाने पर गुस्साए खाड़ी के लोगों ने ऑल वेदर रोड कंपनी की आमसेरा स्थित मिक्सिंग व क्रेशर प्लांट में पहुंच कर धरना देते हुए आज से दोनों प्लांट बंद करवा दिए हैं।
आंदोलन की अगुवाई कर रहे उत्तराखंड जन जागृति संस्थान के अध्यक्ष व क्षेत्रीय सामाजिक कार्यकर्ता रंजन रंजन ने बताया कि कल जब पत्थर गिरा तो मौके पर मौजूद जिले के मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक रोहिल्ला जिला को घटना की सूचना दी।
उप जिलाधिकारी नरेंद्रनगर युक्ता मिश्र और ऑल वेदर रोड निर्माण कंपनी तथा बीआरओ के अधिकारी नरेंद्र ओझा आदि घटनास्थल पर पहुंचे।
लोगों के सिरों पर मौत बनकर तलवार की तरह लटकती चट्टान की ट्रीटमेंट की बात मौके पर ऑल वेदर कंपनी और बीआरओ के अधिकारियों ने स्वीकारते हुए  सुरक्षा के इंतजाम शीघ्र करने की बात की थी। जिसकी शुरुआत अब तक नहीं की गई।
सड़क निर्माण की कंपनियों की लापरवाही को देखते हुए खाड़ी क्षेत्र के लोगों ने मंगलवार को आमसेरा पहुंच कर ऑल वेदर रोड निर्माण कंपनी के मिक्सिंग और क्रेशर प्लांट पर धरना देते हुए उन्हें बंद करवा दिया।
आंदोलन की अगुवाई कर रहे अरुण रंजन का कहना है कि खाड़ी के लोगों के ऊपर मौत बनकर खड़ी कमजोर चट्टान से सुरक्षा के इंतजाम जो फौरी तौर पर किए जाने चाहिए, नहीं किए जा रहे हैं। रंजन ने आरोप लगाया कि ऑल वेदर रोड कंपनी और बीआरओ पूरे मामले को बेहद हल्के में ले रहे हैं।
रंजन सहित रविंद्र सजवाण, जगदंबा उनियाल, गोपाल सजवाण, राजेंद्र पंवार, प्रताप रावत, राकेश भंडारी, सुरजीत रौतेला,संदीप पैन्यूली,नवीन रावत और दीपक पडियार ने कहा कि जब तक खाड़ी बाजार के ऊपर लटक रही भारी चट्टान से वहां रह रहे लोगों की सुरक्षा के इंतजाम ऑल वेदर रोड कंपनी और बीआरओ शुरू नहीं कर देती तब तक उनका धरना जारी रहेगा।
आंदोलनकारियों का यह भी कहना है कि यदि निर्माण कंपनी और अधिकारी धरना के बावजूद गहरी नींद में सोए रहे तो आंदोलन को उग्र किया जाएगा।बता दें कि ऋषिकेश-गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग(एन एच 94) के खाड़ी बाजार में कल उस वक्त अफरा-तफरी मच गई जब भर-भरा कर एक भारी चट्टान खाड़ी बाजार में सड़क पर आ गिररी।
चट्टान गिरने की आवाज इतनी भयावह थी कि लोग अपना नाश्ता और खाना छोड़कर घरों से बाहर निकल पड़े, प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक घटना लगभग दिन में 10 बजे के आसपास की बताई जा रही है। गनीमत यह रही कि चट्टान गिरते वक्त सड़क पर गुजरती यात्री बस बोल्डर के चपेट में आने से बाल-बाल बच गये।
चट्टान गिरने के फौरन बाद इस घटना से गुस्साए लोगों ने नरेंद्रनगर विकास खंड के ब्लॉक प्रमुख राजेंद्र सिंह भंडारी और सामाजिक कार्यकर्ता अरण्य रंजन के नेतृत्व में स्थानीय लोगों ने आधे घंटे तक सड़क पर चक्का जाम कर दिया।
टिहरी जिले के सीडीओ अभिषेक रोहिल्ला भी मीटिंग में जाते दौरान इस जाम में फंस गए,
उन्होंने घटना का पूरा मुआयना किया और इस संबंध में जिला अधिकारी और उप जिलाधिकारी से दूरभाष पर वार्ता की।
उप जिलाधिकारी नरेंद्रनगर युक्ता मिश्र, बीआरओ तथा ऑल वेदर रोड के अधिकारी मौके पर पहुंचे थे और गुस्साए लोगों द्वारा आधे घंटे तक किए जाम को इस आश्वासन के साथ खुलवाया कि तुरंत खाड़ी के ऊपर लटकती चट्टान का ट्रीटमेंट किया जाएगा जिससे लोगों की सुरक्षा हो सके, लेकिन अब तक इसका कार्य शुरू नहीं हो पाया है। ऑल वेदर रोड निर्माण के अधिकारियों और बीआरओ के अधिकारियों के हीला हवाली और ढीले रवैए से गुस्साए लोगों ने एक बार फिर आमसेरा पहुंचकर ऑल वेदर रोड कंपनी के मिक्सिंग और क्रेशर प्लांट में आंदोलन का तंबू गाड़ दिया है। उन्होंने ऐलान किया है कि उनके जीवन के लिए खतरा पैदा करने वाली कंपनियां सुरक्षा का इंतजाम नहीं करेंगी तो व्यापक पैमाने पर आंदोलन को और उग्र किया जाएगा।