Home उत्तराखंड ​हेकड़ी: लैन्सडाउन के कानूनगो  पर भरी सभा में पत्रकार को जान से...

​हेकड़ी: लैन्सडाउन के कानूनगो  पर भरी सभा में पत्रकार को जान से मारने की धमकी देने का आरोप  

464
0

मंजकोट (लैैंसडाउन)- पौड़ी गढ़वाल के सतपुली के निकट लैन्सडाउन तहसील का मंजकोट गांव एक बार फिर चर्चाओं में आ गया है। इस बार मामला एक क्षेत्रिय पत्रकार के साथ राजस्व कर्मचारी द्वारा  भरी सभा में दुुुर्व्यवहार किए जाने का है। पीड़ित  पत्रकार  इंद्रजीत सिंह असवाल का यह भी आरोप है कि मामले की शिकायत करने के लिए जब उन्होंने विभाग के उच्च अधिकारियों को फोन किया तो उधर से किसी ने फोन रिसीव नहीं किया।

 गौरतलब है कि मंजकोट गांव काफी पहले बलात्कार के आरोपी एक बाबा के कारण सुर्खियों में आया था। 

आरोप है कि बाबा ने अपने ही चाचा ताऊ के लड़के को stsc केस में झूठा फंसा दिया था।

बाबा पर अपनी ही दिव्यांग भतीजी को अपने चेलों से धमकाने का भी आरोप है

  

आरोप यह भी है कि उक्त कथित बाबा ने अपने ही गाँव के एक युवा को अपने चेलों से पिटवा दिया था ।

इस मामले को स्थानीय पत्रकार इंद्रजीत असवाल ने प्रमुखता से उठाया था।
पत्रकार इंद्रजीत सिंह असवाल के अनुसार, ये मामला लैन्सडाउन तहसील में गया था, परंतु प्रशासन ने बाबा का ही साथ दिया, गांव वालों का नहीं।

असवाल का कहना है कि गुरुवार 9 जुलाई 2020 को फिर प्रशासन की टीम मंजकोट गांव पहुंची।  पत्रकार इंद्रजीत भी  वहां पहुंचे। जब राजस्व टीम ने गांव के भोले भाले लोगो को डराने का प्रयास किया तो उन्होंने खबर के लिए  मौके की वीडियो बनाने के लिए अपना फोन उठाया। तभी एक बिगड़ैल कानूनगो ने उन्हें जान से मारने की धमकी  दी व अपने गार्डों के द्वारा उन्हें उस जगह से कई दूर तक धक्के मार के ले जाया गया।

पत्रकार असवाल के अनुसार,  उन्होंने जिला अधिकारी व उप जिलाधिकारी को फोन किया  परन्तु उनके द्वारा फोन रिसीव नहीं किया गया। उन्होंने जिला प्रशासन से शिकायत कर पूूूरे मामले की जांच कर दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने की मांग की है।