Home उत्तराखंड सियासत: अब बैलगाड़ी में चढ़कर सड़क पर उतरे हरदा, पेट्रोल डीजल की...

सियासत: अब बैलगाड़ी में चढ़कर सड़क पर उतरे हरदा, पेट्रोल डीजल की मूल्यवृद्धि के खिलाफ किया प्रदर्शन

149
0
संवाददाता
देहरादून-  जनमुद्दों को लेकर हमेशा मुखर  रहने वाले राजनेता हरदा सोमवार को एक बार फिर विरोधी तेवरों के साथ सड़क पर उतरे। लेकिन इस बार उनका अंदाज थोड़ा अलग था। दरअसल, कई  दिनों तक होम क्वारंटाइन रहने के बाद कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व मुख्यमंत्री  हरीश रावत ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के विरुद्ध   सोमवार को बैल गाड़ी में चढ़कर प्रर्दशन किया। इससे पहले उन्होंने  रायपुर शिव मंन्दिर पहुंच कर पूजा अर्चना कर केन्द्र सरकार की सुबुद्धि के लिये प्रार्थना की।
प्रातः लगभग 10 बजे पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ओडिनेन्स फैक्ट्री के गेट के निकट पहुॅचकर पहले से तैयार बैल गाड़ी में बैैठे उनके साथ बैल गाड़ी में रायपुर के पूर्व ब्लॉक प्रमुख व कांग्रेस के विधायक उम्मीदवार रहे प्रभु लाल बहुगुणा सवार हो गये। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत व प्रभुलाल बहुगुणा सहित लगभग सभी कार्यकर्ताओं ने सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करते हुए मुॅह पर मास्क लगा रखे थे। इस अवसर पर  पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने  कहा कि पूरे विश्व में जहां कच्चे तेल की कीमतें कम हो रही हैं, वहीं केन्द्र सरकार एक दर्जन से अधिक बार पेट्रोल, डीजल व गैस के दामों में वृद्धि कर चुकी है, जो कि परिवहन व्यवस्था, खेती किसानी व ऑटो इंडस्ट्री के लिये घातक सिद्ध हो रहा है। उन्होंने आगे कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतों की बढ़ोत्तरी से आवश्यक वस्तुओं के दाम भी बेतहाशा बढ़ गये हैं। केंद्र के इस जनविरोधी कदम ने कोरोना सकंट में पहले से ही ध्वस्त हुई अर्थ व्यवस्था को और चौपट कर दिया है। उद्योग धन्धे, खेती-किसानी और व्यापार पहले ही मंदी की मार से घातक दौर से गुजर रहे हैं। लगातार हो रही मूल्य वद्धि से आम आदमी की कमर टूट गई है। उन्होंने कहा कि वे भोले बाबा के चरणों में ये प्रार्थना लेकर आए कि केन्द्र सरकार में बैठे हुए तमाम लोगों को सुबुद्धि प्राप्त हो। 
रावत ने कहा कि उन्होंने देश व प्रदेश के जल्दी कोरोना मुक्त होने की प्रार्थना भी भोले बाबा से की है। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शिव मन्दिर पहुॅचने से पहले बैलगाड़ी में बैठकर ही महाराणा प्रताप चौक का एक चक्कर लगाया और महाराणा प्रताप को अपनी पुष्पांजलि भी अर्पित की। प्रर्दशन के दौरान मंहगाई के विरुद्ध  नारे लिखी तख्तियां लेकर कार्यकर्ता आगे आगे चल रहे थे। हालांकि  रावत कार्यकर्ताओं को नारे लगाने से रोक रहे थे। लेकिन फिर भी मंहगाई के विरुद्ध  जोरदार नारे लगते रहे। इस अवसर पर उनके साथ प्रभुलाल बहुगुणा के अलावा जोत सिंह बिष्ट, पूरन रावत, आशा मनोरमा डोबरियाल शर्मा, हेमा पुरोहित, कमलेश रमन, पार्षद हुकुम सिंह गड़िया, पार्षद अनिल क्षेत्री, राजेश शर्मा, अनिल नेगी, अभय ध्यानी, अजय डोभाल, कविता लिंगवाल, सरिता बिष्ट, ज्योति देवी, सुलेमान अली, संगीता रावत, प्रतिमा शर्मा, सुनीता गुरुंग आदि सैकड़ों की तदाद में कार्यकर्ता मौजूद रहे।