Home उत्तराखंड पतंजलि: ड्रग विभाग का खुलासा, इम्युनिटी और खांसी- जुकाम की दवा का...

पतंजलि: ड्रग विभाग का खुलासा, इम्युनिटी और खांसी- जुकाम की दवा का लाइसेंस था, कोरोना की दवा का नहीं 

227
0

संवाददाता

देहरादून-  पहले कोरोना वायरस के इलाज की अचूक दवा बना लेने का दावा करने और बाद में उस पर केंद्रीय आयुष मंत्रालय द्वारा रोक लगा दिए जाने के बाद चर्चाओं में आए पतंजलि आयुर्वेद की स्थिति ‘सर मुंडाते ही ओले पड़े’ वाली कहावत जैसी हो गई है।   अब उत्तराखंड आयुर्वेद मेडिकल ड्रग्स लाइसेंसिंग आथॉरिटी ने भी बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद के कोरोना की दवा बना लेने के दावे को नकार दिया है। अथॉरिटी का कहना है कि पतंजलि ने कोविड-19 की दवाई निर्माण के लिए आवेदन नहीं किया था।
 उधर केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपाद नाइक ने कहा कि दवा बनाना अच्छी बात है लेकिन नियमों का पालन भी जरूरी है। दवा बनाने के बाद उसे मंत्रालय को भेजना चाहिए था। जांच के बाद ही  इसका निर्णय किया जायेगा।
 उत्तराखंड आयुर्वेद ड्रग्स लाइसेंस अथॉरिटी के संयुक्त निदेशक वाई एस रावत ने कहा कि पतंजलि ने इम्युनिटी और खांसी जुकाम के लिए लाइसेंस लिया था न कि कोरोना की दवा के लिए। अथॉरिटी के मुताबिक उन्हें मीडिया रिपोर्ट से ही यह पता चला कि पतंजलि ने कोरोना की दवा बनायी है।
 उत्तराखंड ड्रग्स अथॉरिटी के इस बयान के बाद बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद एक बार फिर विवादों में घिर गयी है। उधर, पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ बालकृष्ण ने सफाई दी है कि नोटिस में मांगी गई समस्त जानकारियां और दस्तावेज मंत्रालय को उपलब्ध करा दी गई हैं। इस पूरे प्रकरण के लिए उन्होंने ‘संवाद में कमी’ को जिम्मेदार ठहराया है। उनका कहना कि मामला जल्दी सुलझा लिया जाएगा।