Home उत्तराखंड सुविधा: सरकारी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में हाई स्पीड नेटवर्क कनेक्टिविटी सुविधा जल्द

सुविधा: सरकारी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में हाई स्पीड नेटवर्क कनेक्टिविटी सुविधा जल्द

214
0
वी.पी. सिंह बिष्ट

देहरादून- वैश्विक महामारी कोविड-19 से उपजी परिस्थितियों को देखते हुए प्रदेश के राजकीय विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों को हाई स्पीड नेटवर्क कनेक्टीविटी से जोड़े जाने संबंधी महत्वकांक्षी योजना शीघ्र ही धरातल पर नजर जायेगी। इस संबंध में आज उच्च शिक्षा राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डाॅ. धन सिंह रावत की अध्यक्षता में विधानसभा स्थित उनके कार्यालय कक्ष में उच्च शिक्षा, सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग एवं एनआईसी के उच्चाधिकारियों के साथ महत्वपूर्ण बैठक हुई। इस योजना के अंतर्गत राज्य के 105 राजकीय महाविद्यालयों एवं सभी राजकीय विश्वविद्यालयों को हाई स्पीड नेटवर्क कनेक्टीविटी से जोड़े जाने का निर्णय लिया गया है।
बैठक में राज्य मंत्री डाॅ.रावत ने बताया कि योजना को शीघ्र लागू करने के लिए सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग के अंतर्गत आईटीडीए को जिम्मेदारी सौंपी गई है। आईटीडीए शीघ्र ही राज्य के उच्च शिक्षण संस्थानों में हाई स्पीड नेटवर्क कनेक्टीविटी का काम शुरू करेगा। जिसके लिए धनराशि उच्च शिक्षा विभाग मुहैया करायेगा।
उन्होंने कहा कि सरकार की मंशा प्रदेश के उच्च शिक्षण संस्थानों को अधिक से अधिक सुविधाएं प्रदान करना है। जिसमें हाई स्पीड नेटवर्क कनेक्टिविटी, ई-ग्रंथालय, ई-बोर्ड, कम्प्यूटर लैब, आधुनिक प्रयोगशालाएं सहित 14 प्रकार की सुविधाओं से महाविद्यालयों को परिपूर्ण किया जायेगा। ताकि वर्तमान परिस्थियों में छात्र-छात्राओं को ऑनलाईन शिक्षण एवं परीक्षा संबंधी सुविधाओं के साथ महाविद्यालयों को नैक रैंकिंग के लिए भी तैयार किया जा सके।
बैठक में प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा आनंद वर्द्धन, सचिव सूचना एवं प्रोद्योगिकी आर.के. सुधांशू, निदेशक आईटीडीए अमित कुमार सिन्हा, अपर सचिव उच्च शिक्षा दीपेंद्र चौधरी, वरिष्ठ तकनीकी निदेशक एनआईसी एस.के. शर्मा, टेक्नीकल डायरेक्टर एनआईसी मनोज जोशी, संयुक्त सचिव उच्च शिक्षा एम.एम. सेमवाल, संयुक्त निदेशक उच्च शिक्षा डाॅ. पी.के.पाठक, स्टेट हेड उत्तराखंड रिलायंस जियो विशाल अग्रवाल, स्टेट को-आर्डिनेटर रिलायंस जियो दीपक पाल सिंह, कुलसचिव सुधीर बुडाकोटी, उप सचिव सूचना एवं प्रोद्योगिकी देवेंद्र सिंह, नोडल एडुसेट नेटवर्क डाॅ. विनोद कुमार सहित कई विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।