Home उत्तराखंड दहशत: ढाई साल की मासूम को आंगन से उठा कर खा गया...

दहशत: ढाई साल की मासूम को आंगन से उठा कर खा गया तेंदुआ, हाथी ने पटक कर मार डाला बुजुर्ग महिला को

110
0
अल्मोड़ा( संवाददाता)- कोरोना संकट से जूझ रहे प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों में वन्य जीवों के हमलों का नया संकट खड़ा हो गया है। ख़ासतौर से आदमखोर तेंदुओं की लगातार सक्रियता के चलते पहाड़ों में खौफ का माहौल है। इस बीच कुमाऊं से एक बुरी खबर आई है। अल्मोड़ा के एक गांव में आदमखोर तेंदुए ने ढाई साल की मासूम बच्ची को अपना निवाला बना लिया। पिछले काफी समय से उत्तराखंड में वन्य जीवों और इंसानों के बीच संघर्ष की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं। पहाड़ों के साथ ही तराई भाबर में भी वन्यजीवों और मानव के बीच संघर्ष की घटनाएं आए दिन सामने आ रही हैं। 
सोमवार को भी इस तरह की दो घटनाएं सामने आई हैं। पहली घटना भाबर में गौलापार की दानी बंगर गांव में हुई, जहां जंगली हाथी ने एक बुजुर्ग महिला को पटक कर मार डाला ।
 दूसरी घटना अल्मोड़ा की है। जनपद के पेटशाल के उदलगांव में एक ढाई साल की बच्ची को गुलदार ने अपना निवाला बना लिया। गांव के देवेंद्र सिंह मेहरा की बिटिया  हर्षिता मेहरा अपने आंगन के आसपास खेल रही थी कि इसी बीच घात लगाकर बैठे गुलदार ने उस पर झपट्टा मारा और उसे खींच कर जंगल की तरफ ले गया।  काफी देर तक खोजबीन करने के बाद हर्षिता का क्षत विक्षप्त शव बरामद हो सका।सूचना मिलने पर वन विभाग की अधिकारी संचिता अपने दलबल सहित घटनास्थल पर पहुंची और घटना की जानकारी ली। इस घटना को लेकर नाराज ग्रामीणों ने वन विभाग से आदमखोर गुुलदार से सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की है। क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है।