Home उत्तराखंड दुश्वारियां: उत्तराखंड में बारिश का सितम जारी, बदरीनाथ-केदारनाथ हाईवे और यमुनोत्री...

दुश्वारियां: उत्तराखंड में बारिश का सितम जारी, बदरीनाथ-केदारनाथ हाईवे और यमुनोत्री पैदल मार्ग बंद

182
0

संवाददाता

रुद्रप्रयाग-  राजधानी देहरादून समेत उत्तराखंड के कई इलाकों में मंगलवार को भी बादल छाये हुए हैं और भारी बारिश होने का आसार बने हुए हैंं। मौसम केंद्र के अनुसार, पिथौरागढ़, बागेश्वर, नैनीताल, चंपावत, पौड़ी, हरिद्वार, टिहरी, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी जिलों में ज्यादातर स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। अल्मोड़ा, उधमसिंहनगर और चमोली जिलों में कुछ स्थानों पर तेज हवाओं के साथ हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। वहीं, रुद्रप्रयाग में सुबह से ही हल्की बारिश हो रही है। गौरीकुंड हाईवे पर भूस्खलन से तीसरे भी आवाजाही ठप पड़ी है। सोमवार को बादल फटने की घटना के बाद से ही आपदा प्रभावित गांव में अब भी स्थिति खराब बनी हुई है। यमुनोत्री धाम के पास उच्च हिमालय क्षेत्र में रात को बारिश के कारण मलबा आने से पैदल मार्ग अवरुद्व हो गया है। चमोली जिले में बदरीनाथ हाईवे पर मैठाणा, बाजपुर, छिनका, भनेरपाणी, काली मंदिर, पागलनाला, लामबगड़ में मलबा और बोल्डर आने से यातायात ठप हो गया है। गोपेश्वर मार्ग पर अलकापुरी, नरोधार, थराली में देवाल मार्ग के बीच सड़क पर मलबा आने के कारण रास्ता बंद है। श्रीनगर में अलकनंदा नदी का जल स्तर खतरे के निशान के पास पहुंच गया है। बदरीनाथ नेशनल हाईवे के तोता घाटी में बंद होने पर वैकल्पिक मार्ग के रूप में प्रयोग होने वाला देवप्रयाग-गजा मोटर मार्ग भी लसेर के पास बंद हो गया है।

खतरनाक जगहों पर  एसडीआरएफ तैनात

बरसात में खतरनाक जगहों पर एसडीआरएफ को अलर्ट मोड पर रखा गया है। आईजी गढ़वाल रेंज अभिनव कुमार ने बताया कि गढ़वाल रेंज के सभी जिलों में कई खतरनाक स्थान हैं। इन स्थानों पर अचानक तेज बारिश और जल प्रवाह के कारण आपदा जैसी स्थिति आ जाती है। ऐसे में एसडीआरएफ को इन स्थानों तक पहुंच तेजी से पुल बनाने को कहा गया है। इसके साथ ही जहां तक शहरों में ऐसे स्थानों की बात है तो वहां पर थाना पुलिस को भी अलर्ट पर रखा गया है।

मसूरी में मौसम का सितम, कई मार्ग बंद

मसूरी में भी बारिश सितम बनकर टूटी। जगह-जगह हुए भूस्खलन से कई मार्ग बंद हो गए। सोमवार देर शाम तक कुछ मार्ग खोल दिए गए थे। वहीं, एक रास्ता खोलते वक्त जेसीबी पलट गई। इससे चालक घायल हो गया। मसूरी में भारी बारिश के कारण काफी नुकसान हुआ है। कई संपर्क मार्ग भूस्खलन और पेड़ गिरने के बाद बाधित हो गए। मसूरी-देहरादून मार्ग कोल्हूखेत और जेपी बैंड के पास भूस्खलन के बाद बंद हो गया। वहीं, मसूरी-कैंपटी मार्ग सांझा दरबार के पास पेड़ गिरने से काफी देर तक बंद रहा। मसूरी-कैंपटी मार्ग को खुलवाने के लिए जेसीबी की मदद लेनी पड़ी, परंतु जेसीबी अनियंत्रित होकर सड़क पर पलट गई, जिसमें जेसीबी चालक घायल हो गया। मसूरी फायर सर्विस, पुलिस और लोक निर्माण विभाग की ओर से मार्ग देर शाम तक खोला गया। वहीं, टिहरी बाईपास मार्ग बासा घाट के पास क्षतिग्रस्त हो गया। यह रास्ता लगातार भूस्खलन की चपेट में आने से संकरा हो गया है, जिससे वाहनों के आवगमन में परेशानी हो रही है। लक्ष्मणपुरी में भूस्खलन के बाद मलबा घर के ऊपर आ गिरा, जिससे मकान को आंशिक रूप से नुकसान हुआ।