Home Home मिसाल:  ईमानदारी की मिसाल बने राकेश सिंह रावत, 25 लाख की अंगूठी...

मिसाल:  ईमानदारी की मिसाल बने राकेश सिंह रावत, 25 लाख की अंगूठी लौटा कर बढ़ाया उत्तराखंड का मान

164
0
गजेंद्र सिंह बिष्ट
रुद्रप्रयाग, 19 सितंबर। ईमानदारी सीखनी है तो उत्तराखंड के युवाओं से सीखिए। दिल्ली, मुंबई व अन्य राज्यों के लोगाें के जेहन में पहाड़ी ( उत्तराखंडी ) नाम सुनते ही ईमानदारी शब्द कौंधने लगता है। पुश्तों से पहाड़ी लोग ईमानदारी के लिए ही जाने जाते हैं। ऐसी ही ईमानदारी की एक प्रशंसनीय मिसाल पेश की है उत्तराखंड के गौरीकुंड सीतापुर गांव निवासी राकेश सिंह रावत ने। दरअसल, हाल ही में केदारनाथ मंदिर के प्रांगण में राकेश सिंह रावत को 25 लाख रुपये मूल्य की हीरे से जड़ित एक अंगूठी मिली। लेकिन चरित्र और संस्कार देखिए कि उनका मन बेशकीमती अंगूठी के लिए जरा भी नहीं डिगा। उन्होंने अंगूठी को उसके मालिक तक पहुंचाने का भरसक प्रयास किया। बताया जाता है कि राजस्थान के राजन 14 सितंबर को बाबा केदार के दर्शन करने आए थे। वहां उनकी अंगूठी खो गई थी। बहुत ढूंढ़ने पर भी जब अंगूठी नहीं मिल पाई तो उसके बाद राजन ने सोनप्रयाग थाने में शिकायत दर्ज कराई। दिलचस्प बात यह है कि खोई हुई अंगूठी पाने वाले राकेश सिंह रावत ने भी थाने में अंगूठी मिलने की सूचना दी। थानाध्यक्ष होशियार सिंह पंखोली ने राजन को सूचित किया। सूचना पाकर राजन वहां पहुंचा तो 16 सितंबर को राजन को अंगूठी दे गई। राजन ने राकेश सिंह रावत को धन्यवाद दिया और उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। इस घटना की खबर सार्वजनिक होने के बाद से राकेश सिंह रावत की इलाके भर में राकेश सिंह रावत की ईमानदारी की घर घर तारीफ हो रही है।