Home उत्तराखंड आक्रोश: मुकदमा दर्ज करने पर भड़के सस्ता गल्ला विक्रेता

आक्रोश: मुकदमा दर्ज करने पर भड़के सस्ता गल्ला विक्रेता

188
0

प्रतीकात्मक फोटो

संवाददाता
 पिथौरागढ़, 24 मई। साप्ताहिक क‌र्फ्यू के उल्लंघन पर एक मुकदमा दर्ज किए जाने से सस्ता गल्ला विक्रेता भड़क गए हैं। सस्ता गल्ला विक्रेता संघ ने कहा है कि कोविड-19 काल में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का राशन अपनी जेब से पैसा खर्च कर गरीबों को वितरित किया जा रहा है। इसके लिए सम्मानित करने के बजाय पुलिस उनके खिलाफ मुकदमे दर्ज कर रही है। सस्ता गल्ला विक्रेताओं ने दर्ज मुकदमा वापस नहीं लेने पर राशन वितरण ठप कर देने की चेतावनी दी है।
दो रोज पूर्व पुलिस ने तिलढुकरी क्षेत्र में एक सस्ता गल्ला विक्रेता मनोज पांडेय के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया था। विक्रेता पर निर्धारित समय के बाद दुकान खोलने और वहां भीड़ जमा करने का आरोप है। इस कार्रवाई पर संघ ने कड़ा आक्रोश जताते हुए कहा है कि गरीब कल्याण योजना के तहत दिए जाने वाले राशन की ढुलाई का कोई खर्च सरकार से नहीं मिल रहा है। विक्रेता गोदामों से अपनी दुकान तक राशन कर ढुलान अपनी जेब से पैसा देकर इसका वितरण करवा रहे हैं, ताकि गरीबों को खाद्यान्न की समस्या न झेलनी पड़े। इतना महत्वपूर्ण कार्य करने के बावजूद पुलिस उनका उत्पीड़न कर रही है। सस्ता गल्ला विक्रेता संघ के मनोज पांडेय, भावना अग्रवाल, ललित सिंह महर, केसी जोशी, कैलाश चंद्र उप्रेती, सलीम खान ने सोमवार को यह मामला जिलाधिकारी के सामने रखा और विक्रेता पर दर्ज मुकदमा वापस लिए जाने की मांग की। विक्रेताओं ने कहा कि राशन वितरण के लिए दिया गया समय बढ़ाया जाए, इससे दुकानों में भीड़ जमा नहीं होगी।