Home उत्तराखंड संकट: भारत-चीन सीमा के पास पुल ढहा, 50 गांव सड़कों से कटे

संकट: भारत-चीन सीमा के पास पुल ढहा, 50 गांव सड़कों से कटे

179
0

 

संवाददाता
पिथौरागढ़, 09 जुुलाई। भारी बारिश के कारण उत्तराखंड में एक बार फिर रास्ते बंद हो जाने की बड़ी खबर आई है। इस बार 48 मीटर लंबा कॉंक्रीट का एक ब्रिज ढह जाने के चलते दरमा, व्यास और चौदस घाटियों का संपर्क सीमांत ज़िलों से कट गया है। वहीं, भारी बारिश के कारण चीन और नेपाल के साथ जुड़ने वाली भारत की सीमा से सटे 50 से ज़्यादा गांवों का संपर्क सड़क मार्ग से कट गया है। यानी ये गांव धारचूला तहसील मुख्यालय से कट चुके हैं। दूसरी तरफ, पिथौरागढ़ समेत उत्तराखंड के कई ज़िलों में 12 जुलाई तक भारी बारिश के आसार जताते हुए यलो अलर्ट जारी कर दिया गया है।
ब्रिज ढहने के बारे में धारचूला के एसडीएम एके शुक्ला ने बताया कि यह ब्रिज टनकपुर-तवाघाट नेशनल हाईवे पर कुलागर सहायक नदी पर बना था। यह इलाका भारत-चीन सीमा के नज़दीक है। एक रिपोर्ट के मुताबिक शुक्ला ने यह भी बताया कि विकल्प के तौर पर बॉर्डर सड़क संगठन ने एक ट्रेक रूट तैयार करवाया है। शुक्ला के मुताबिक टूटी हुई सड़क की दूसरी तरफ पहुंचने के लिए करीब 100 मीटर की दूरी तक माल परिवहन हो चुका है। वहीं, बीआरओ ने कहा कि बॉर्डर से सटी घाटियों में वाहनों की आवाजाही हो सके, इसके लिए पांच दिनों के भीतर वैकल्पिक बैली ब्रिज बनवाया जाएगा।  बता दें कि 2013 में जब एक सड़क बारिश से टूट गई थी, तब आपदा प्रबंधन विकास विभाग और बीआरओ ने सड़क को जोड़ने के लिए ब्रिज बनवाया था। स्थानीय लोगों के मुताबिक अब स्थिति यह है कि कई वाहन और लोग रास्ते में फंस चुके हैं। कुछ ग्रामीणों के हवाले से खबरें कह रही हैं कि इस दुर्घटना का कारण नागने बुगयाल में बादल फटने से कुलागड़ नदी में मलबा बहकर आना हो सकता है।