Home उत्तराखंड कुंभ मेला: बिना रजिस्ट्रेशन कराए नहीं मिलेगा प्रवेश, आगंतुकों के लिए थर्मल...

कुंभ मेला: बिना रजिस्ट्रेशन कराए नहीं मिलेगा प्रवेश, आगंतुकों के लिए थर्मल स्क्रीनिंग और मास्क भी जरूरी

191
0

 

संवाददाता
हरिद्वार, 30 दिसंबर। अगर आप आगामी कुंभ मेले में आने की सोच रहे हैं तो आने से पहले अपना रजिस्ट्रेशन अवश्य करा लें, अन्यथा कुंभ स्नान कर पुण्य कमाने की आपकी हसरत अधूरी रह सकती है।  मेलाधिकारी  दीपक रावत की अध्यक्षता में हुई एक  बैठक में मेला आयोजन से जुड़े कई अहम फैसले लिए गए हैं। बुधवार को मेला नियंत्रण भवन (सीसीआर) में कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुयेे कुम्भ के आयोजन के सम्बन्ध में एक बैठक आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता मेलाधिकारी दीपक रावत ने की।
बैठक में कुम्भ में आने वाले यात्रियों के रजिस्ट्रेशन को लेकर हुई  चर्चा के बाद तय हुआ कि जो भी आगंतुक कुम्भ मेला क्षेत्र में प्रवेश करेगा, उसे रजिस्ट्रेशन कराने के बाद ही प्रवेश करने दिया जाएगा । मौजूदा समय में भी मेला प्रशासन द्वारा रजिस्ट्रेशन चेक किए  जा रहे हैं तथा रजिस्ट्रेशन नम्बर नोट किए जा रहे हैं। बैैठ में यह भी तय किया गया कि जो भी कुम्भ यात्री बस या ट्रेन से आयेंगे, उन्हें यात्रा प्रारम्भ करने वाले स्थल पर थर्मल स्क्रीनिंग करानी होगी।
बैठक में फ्री ऑफ कास्ट मास्क उपलब्ध कराने के सम्बन्ध में भी चर्चा हुई तथा तय किया गया कि बिना मास्क के कोई भी घाट पर स्नान नहीं करेगा। साथ ही दुकानदारों को भी कोविड-19 की गाइड लाइन का पालन करना होगा तथा उन्हें ट्रेनिंग भी दी जायेगी।
कोविड-19 के दृष्टिगत अस्पतालों की क्षमता, नये अस्पतालों का सृजन,  वर्तमान में  कितने बेड उपलब्घ हैं तथा किन-किन क्षेत्रों में होटलों/धर्मशालाओं का अधिग्रहण करना है एवं कितने समय पूर्व व कितने समय बाद तक के लिये बुक/अधिग्रहण करना है, इस सम्बन्ध में भी विस्तृत चर्चा हुई।
अतिक्रमण के सम्बन्ध में विचार-विमर्श के दौरान जिलाधिकारी ने बताया कि वर्तमान में अतिक्रमण का कोई प्रकरण संज्ञान में नहीं है, अगर कहीं पर अतिक्रमण है, तो उसकी सूची  प्रशासन को उपलब्ध करा दी जाये, उसे भी अतिक्रमण मुक्त यथाशीघ्र करा दिया जायेगा।
पार्किंग के सम्बन्ध में आईजी कुम्भ संजय गुंज्याल, ने सप्त ऋषि, आरटीओ चौराहे के पास चिह्नित पार्किंग को 14 जनवरी से पूर्व समतल करने की बात कही। बैठक में कनखल, मायापुर, जगजीतपुर, बैरागी, दक्षदीप, गौरीशंकर, रोड़ीवाला, लालजीवाला, पन्तदीप, भीमगौड़ा, सप्त सरोवर, रानीपुर आदि पार्किंग स्थलों के सम्बन्ध में विस्तृत चर्चा हुई।
सभी राज्यों को कोविड-19 के दृष्टिगत यात्रियों से भारत सरकार द्वारा जारी गाइड लाइन का पालन कराने की अपील करने के सम्बन्ध में मेलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि प्रकरण को शासन के संज्ञान में लाया जायेगा।
बैठक में मेला अधिकारी दीपक रावत ने खड़खड़ी श्मशान क्षेत्र के पुल को जल्दी शुरू करने एवं चण्डी पुल को डबल लेन करने के सम्बन्ध में अधिकारियों को निर्देश दिये।
बैठक में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सैंथिल अबुदई कृष्णराज एस., अपर मेलाधिकारी, कुम्भ  ललित नारायण मिश्रा एवं  रामजी शरण शर्मा, एसपी. सिटी  कमलेश उपाध्याय, स्वास्थ्य मेला अधिकारी, सिंचाई, पीडब्ल्यूडी, नगर निगम सहित सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।


दूसरी ओर, उत्तरांचल पर्वतीय कर्मचारी शिक्षक संगठन उत्तराखंड ने बुधवार को मेला अधिकारी दीपक रावत को ज्ञापन देकर कर्मचारियों हेतु 20% मेला भत्ता अनुमन्य किए जाने की मांग की। संगठन के जिला अध्यक्ष केसी शर्मा ने कहा कि जनपद हरिद्वार के समस्त शिक्षकों एवं कर्मचारियों को सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण में उनके योगदान एवं महाकुंभ के दौरान संभावित महंगाई वृद्धि के कारण वर्ष 2021 में आयोजित हो रहे विश्व प्रसिद्ध कुंभ मेला हेतु उत्तराखंड राज्य में इस संबंध में अंगीकृत पूर्व नियमों तथा परंपराओं को और लचीला बनाते हुए एवं उत्तर प्रदेश राज्य की तर्ज पर समस्त कार्मिकों को मूल वेतन का 20% या रुपए 25000 मेला भत्ता अनुमन्य किया जाना आवश्यक है।

जनपद हरिद्वार में समय-समय पर आयोजित होने वाले वृद्ध मेलों जैसे कि महाकुंभ कांवड़ आदि लोगों के साथ ही वर्ष पर आयोजित होने वाले स्नान पर्वों के प्रभाव स्वरूप महंगाई में अचानक वृद्धि हो जाती है। मेलों एवं खानपान पर व उसके सफल संचालन हेतु विपरीत परिस्थितियों में चुनौतियों का सामना करते हुए जनपद के समस्त कार्मिक उक्त मेले में पूर्ण निष्ठा से अपना योगदान देते रहे। इसलिये जनपद हरिद्वार के समस्त शिक्षकों एवं कर्मचारियों को सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण में उनके योगदान एवं महाकुंभ के दौरान संभावित महंगाई वृद्धि के कारण वर्ष 2021 में आयोजित हो रहे विश्व प्रसिद्ध कुंभ मेला हेतु उत्तराखंड राज्य में इस संबंध अंगीकृत पूर्व नियमों तथा परंपराओं को और लचीला बनाते हुए एवं उत्तर प्रदेश राज्य की तर्ज पर जनपद के समस्त कार्मिकों को मूल वेतन का 20% या रुपए 25000 मेला भत्ता अनुमन्य किया जान आवश्यक है। इस दौरान ज्ञापन देने वालों में संगठन के जिलाध्यक्ष केसी शर्मा, जिला महामंत्री ललित मोहन जोशी, कोषाध्यक्ष सगीर अहमद, उपाध्यक्ष विनय सैनी, संगठन मंत्री मनोज चंद,पंकज जैन एवं संगठन की अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।