Home उत्तराखंड शोषण: इन लुटेरों से जनता को बचाइए सरकार….

शोषण: इन लुटेरों से जनता को बचाइए सरकार….

157
0
गजे सिंह बिष्ट
गैरसैंण, 03 अक्टूबर। पुलिस और प्रशासन की ढील का फायदा उठा कर पहाड़ी मार्गों पर टैक्सी के तौर पर चलने वाली छोटी गाड़ियों के संचालक यात्रियों का खुलेआम आर्थिक शोषण कर रहे हैं। गैरसैंण से देहरादून और देहरादून से गैरसैंण को आवाजाही करने वाली छोटी गाड़ियों में अब भी मनमर्जी से किराया वसूला जा रहा है। इस रूट पर अनलाॅक-5 में 1000 रुपये किराया वसूला जा रहा है, जबकि लॉकडाउन से पहले 550 रुपये किराया लिया जाता था। अब टिहरी से घूमकर जाने का हवाला देकर यात्रियों से मनमाफिक किराया वसूला जा रहा है। 10 सवारी में गाड़ी पास होने पर 550 के हिसाब से 5500 किराया बैठता है। जबकि एक हजार रुपये किराया वसूलने पर दस हजार की कमाई हो रही है। यानी टिहरी से घूमकर जाने में इनका 4500 रुपये का तेल अधिक फूंक रहा है। जीप वाले इस तरह से लोगाें को लूट रहे हैं। लाॅकडाउन में तो और इन लोगों ने और भी अंधेरगर्दी मचा रखी थी। एक सवारी पर 2000 रुपये वसूले गए। पांच की जगह 7 सवारियां ले जा रहे थे। देखने वाला कोई नहीं था। अधिकतर अधिकारी और  पुलिसकर्मी कोरोना में व्यस्त थे। 5500 रुपये की जगह 14 हजार रुपये की कमाई की जा रही थी। ऊपर से छतों में दुकानदारों का सामान ले जाकर अलग से कमाई यानी तीन गुना कमाई। टैक्सी संचालकों के शोषण का शिकार हो रहे लोगों ने सरकार से गुहार लगाई है कि  अगर इस प्रदेश के भीतर कोई नियम कायदे हैं इन लुटेरों से आम जनता को बचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।