Home उत्तराखंड तैयारीः देश-दुनिया में फिर से महकेगी दून की चाय

तैयारीः देश-दुनिया में फिर से महकेगी दून की चाय

67
0
संवाददाता
देहरादून, 26 अक्टूूूबर। दून की चाय को एक बार फिर से देश और दुनिया में महकाने के लिए डीटीसी इंडिया लिमिटेड ने मशक्कत शुरू कर दी है। स्वास्थ्य-महक एवं ताजगी के लिए दून की चाय बेहद मशहूर रही है। देश और दुनिया में धूम मचाने वाली दून की चाय एक बार फिर से महकने के लिए तैयार हो रही है। डीटीसी द्वारा लगभग 30 हजार पौधों को खुद की नर्सरी में तैयार किया गया है और 15 हजार पौधों को आसाम के सिलिगुडी से मंगाया गया है।
कभी हरियाली व स्वास्थ्य वर्धक जलवायु के लिए मशहूर देहरादून में विकास की होड़ इस कदर लगी कि चाय बागान ही उजड़ गये। ऐसे में बचे हुए चाय बागानों को एक बार फिर से जिंदा करने के लिए डीटीसी इंडिया लिमिटेड अथक प्रयासों में जुटा हुआ है। डायेरक्टर डीके सिंह का कहना है कि कभी देहरादून में बहुत स्थानों पर चाय के बागान हुआ करते थे। जो अब कॉलोनियों का आकार ले चुके हैं। चाय बागानों को जिन्दा करने के लिए इस बार आसाम के सिलीगुड़ी से 15 हजार पौधे चाय के मंगाये गये हैं।

देहरादून की पहचान कभी यहां उगने वाली हर्बल चाय से होती थी। जिसे देश व विदेशों में खूब पंसद किया जाता था लेकिन कंक्रीट के जंगल बढ़ने से यहां की चाय का अस्तित्व खो गया और स्थानीय चाय बाजारों से गायब ही हो गई। अब एक बार फिर से इसे पुराने स्वरूप में लाने के लिए डीटीसी इंडिया लिमिटेड लगातार प्रयास कर रही है। यहां के मैनेजर राजेन्द्र डिमरी का कहना है कि यहां की चाय बिट्रिश काल में पूरी तरह से निर्यात की जाती थी। ये चाय स्वास्थ्य वर्धक होे के साथ-साथ इम्युनटी बूस्टर का काम भी करती है। कम्पनी का प्रयास अगर सफल रहा तो एक बार फिर से देहरादून की चाय देश और दुनियां में अपना पुराना स्वरूप पाने में सफल हो जायेगी।