Home उत्तराखंड बरसी: मसूरी गोलीकांड की बरसी पर शहीद राज्य आंदोलनकारियों को दी गई...

बरसी: मसूरी गोलीकांड की बरसी पर शहीद राज्य आंदोलनकारियों को दी गई श्रृद्धांजलि

116
0
संवाददाता
देहरादून, 02 सितंबर। पृथक उत्तराखंड राज्य निर्माण आंदोलन के दौरान हुए मसूरी गोलीकांड की 26वीं बरसी पर मसूरी में आज विभिन्न राजनीतिक और सामाजिक संगठनों द्वारा शहीदों को नमन करते हुए श्रृद्धांजलि अर्पित की गई। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत और पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने भी मसूरी के शहीद स्थल पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर हरीश रावत ने राज्य निर्माण के लिए अपनी जान की बाजी लगा देने वाले शहीदों के बलिदान को याद करते हुए कहा कि उत्तराखंड के विकास के लिए पूर्व में बहुत कुछ किया गया है और अब भी बहुत कुछ किया जाना बाकी है।
बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और नैनीताल सांसद अजय भट्ट के साथ ही मसूरी विधायक गणेश जोशी ने शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। 
 अजय भट्ट ने कहा कि आंदोलनकारी शहीदों के सपनों के अनुरूप उत्तराखंड को बनाना है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड और केंद्र की भाजपा सरकार  राज्य के विकास के लिए निरंतर काम कर रही है।

इधर, कचहरी स्थित शहीद स्थल में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने राज्य आंदोलनकारियों के बलिदान को याद करते हुए उन्हें नमन किया। 
गौरतलब है  कि एक सितंबर 1994 को खटीमा में पुलिस ने राज्य आंदोलनकारियों पर गोलियां बरसाईं थीं। इसके बाद एक सितंबर की रात ही संयुक्त संघर्ष समिति ने मसूरी में झूलाघर स्थित कार्यालय पर कब्जा कर लिया था और आंदोलनकारी वहां क्रमिक धरने पर बैठ गए थे। जिनमें से पांच आंदोलनकारियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। इसके विरोध में दो सितंबर 1994 को नगर के अन्य आंदोलनकारियों ने झूलाघर पहुंचकर शांतिपूर्ण धरना शुरू कर दिया। 
यह देख रात से ही वहां तैनात सशस्त्र पुलिसकर्मियों ने बिना किसी पूर्व चेतावनी के आंदोलनकारियों पर गोलियां बरसानी शुरू कर दीं। इसमें छह आंदोलनकारी शहीद हो गए थे। दर्जनों आन्दोलनकारी जख्मी हुए और 18 गंभीर रूप से घायल भी हुए।

आंदोलन के दौरान 1 सितंबर हुए खटीमा गोलीकांड और उस के बाद 2 सितंबर को हुए मसूरी गोलीकांड ने उत्तराखण्ड आन्दोलन को त्वरित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इसके बाद समूचे राज्य की जनता के बीच आक्रोश और ज्यादा बढ़ गया। 
मसूरी गोलीकांड के शहीद-
   बेलमती चौहान
            रायसिंह बंगारी
   मदनमोहन  ममगाईं
                     हंसा धनाई
   बलबीर सिंह नेेेगी
                     धनपत सिंह