Home उत्तराखंड आवाज़: छात्र एवं युवा संगठनों ने राज्य में बढ़ती बेरोजगारी के खिलाफ...

आवाज़: छात्र एवं युवा संगठनों ने राज्य में बढ़ती बेरोजगारी के खिलाफ जिला मुख्यालय पर किया प्रदर्शन

86
0
संवाददाता
देहरादून, 15 सितम्बर।
स्टूडेंट्स फैडरेशन आफ इण्डिया (एस एफ आई) एवं भारत की जनवादी नौजवान सभा (डीवाईएफआई ) ने मंगलवार को शिक्षा एवं रोजगार की मांग को लेकर जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम 11 सूत्रीय मांगों का एक ज्ञापन प्रेषित किया गया । आज जिला मुख्यालय के बाहर छात्रयुवा एकत्र हुए तथा जोरदार नारेबाजी कर प्रदर्शन किया ।
इस अवसर पर आयोजित सभा में वक्ताओं ने कहा कि वर्ष 1981 से दोनों संगठन सबको शिक्षा, सबको काम के नारे को लेकर संघर्षरत हैं। किन्तु वर्तमान स्थिति शिक्षा रोजगार की दृष्टि से सबसे ज्यादा भयावह है, जिसके लिए केंद्र की मोदी सरकार सीधे तौर पर जिम्मेदार है। पूरे देश की भांति राज्य में रोजगार की स्थिति नाजुक दौर पर है। कोरना का लाभ उठाते हुए बचेखुचे रोजगार के अवसर भी खत्म किये जा चुके हैं। श्रम कानूनों को ताक पर रखकर काम के घंटे 12कर दिये गये हैं । इस दौरान नई शिक्षा नीति लागू करके शिक्षा पर सीधा हमला मोदी सरकार ने कर दिया है, जिसका देशव्यापी विरोध हो रहा है ।
ज्ञापन में सभी को सस्ती, वैज्ञानिक, रोजगारपरक शिक्षा दिए जाने, शिक्षा को रोजगारपरक बनाए जाने, आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों को चिन्हित कर उनकी फीस माफ किए जाने व अन्य निःशुल्क सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने, युवाओं को जीवनयापन हेतु स्वरोजगार तथा ऋण व्यवस्था उपलब्ध कराए जाने , कर्ज में डूबे युवाओं का कर्ज माफ किये जाने, मनरेगा का दायरा बढ़ाने , शहरी क्षेत्र में रोजगार की व्यवस्था करने, स्थानीय लोगों को रोजगार में 27 फीसदी आरक्षण दिए जाने, स्वास्थ्य सुविधाओं में विस्तार किए जाने  तथा मौजूदा एस टी /एस सी के तमाम वैकलाग पदों पर इस वर्ग से जुडे़ लोगों की भर्ती किए जाने  आदि मांगें प्रमुख थीं ।
इस अवसर पर एस एफ आई के प्रदेश अध्यक्ष नितिन मलेठा, महामंत्री हिमांशु चौहान , राज्य कमेटी सदस्य सोनाली व डी ए वी इकाई उपाध्यक्ष अमन कंडारी आदि लोग मौजूद रहे।
उधर, छात्र व युवा संगठनों की चमोली जिला इकाई की तरफ से भी मांग दिवस पर गोपेश्वर में प्रर्दशन किया गया और जिलाधिकारी स्वाति भदौरिया को सरकार को संबोधित ज्ञापन सौंपा गया।