Home उत्तराखंड आवाज़: किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ किसान सभा का जिला मुख्यालय पर...

आवाज़: किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ किसान सभा का जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन

89
0
जिला प्रशासन के माध्यम से प्रधानमंत्री को भेजा गया ज्ञापन
संवाददाता
देहरादून, 5 नवंबर। 
राष्ट्रव्यापी विरोध दिवस के तहत  गुरुवार को किसान सभा द्वारा जिला मुख्यालय पर जोरदार प्रदर्शन कर जिलाधिकारी के माध्यम से प्रधानमन्त्री को ज्ञापन प्रेषित किया गया।
प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन में कहा गया है कि अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति कुछ स्वतंत्र किसान समूहों द्वारा आज देशभर में 5 नवंबर, 2020 को 4 घंटे चक्का जाम-रास्तो रोको आदि कार्यवाहियां इसलिए आयोजित की जा रही हैं कि किसानों के भारी विरोध के बावजूद भी केेंद्र सरकार द्वारा कृषि क्षेत्र में मार्केटिंग के सन्दर्भ तीन विधेयक संसद में पारित कर कानून बनाये गये हैं। सरकार द्वारा किसानों के आन्दोलन तथा विपक्षी दलों के सांसदों के भारी विरोध को अनसुना किया गया जो कि खेदजनक है । देश के किसान काफी महीनों से आन्दोलित हैं ।हमारे संगठनों का स्पष्ट मानना है कि इन विधेयकों का कानून बनने के बाद कृषि क्षेत्र बड़े घरानों की चरागाह बन जाएगा और किसानों की स्थिति पहले से बदतर हो जाऐगी ।
सरकार द्वारा इन तीन कानूनों को लागू कर किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य, मण्डियों का अधिकार छीन कर किसान की आजीविका पर सीधे तौर पर हमला किया है, जिसके दूरगामी परिणाम देखने को मिलेंगे और देश की खाध्य व्यवस्था जिसका लाभ अब तक आम जरूरतमन्दों को भी मिला करता था। इस लाभ से वह वंचित हो जाऐगा। सरकार ने इन कानूनों के माध्यम से किसानों को न्यायालय जाने के अधिकार से वंचित कर दिया है तथा किसान को नौकरशाही, लालफीताशाही के भरोसे छोड़कर कारपोरेट तथा बहुराष्ट्रीय कम्पनियों को खुलकर लूटने की छूट दे दी है। परिणामस्वरूप पहले से ही संकटग्रस्त कृषि क्षेत्र भविष्य मेंऔर भी अधिक दिक्कतें आ जाऐंगी और किसान आत्महत्याओं में भी वृद्धि होगी ।अब इस कानून के माध्यम से हमारे देश का कारपोरेट तथा बहुराष्ट्रीय भीमकाय कम्पनियां खेती किसानी की खुलकर लूट करेंगे ।
  ज्ञापन में प्रधानमंत्री से नये कृषि कानूूूनों को तत्काल वापस लेने की मांग की गई है।
  
इस अवसर पर प्रान्तीय अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह सजवाण, कोषाध्यक्ष शिवप्रसाद देवली, जिलाध्यक्ष दलजीत सिंह, महामंत्री कमरूद्दीन, उपाध्यक्ष सुधा देवली,  माला गुरूंग , इस्लाम, सत्य पाल,गुमानसिंह ,यू एन बलूनी ,रजनी नैथानी, राजेंद्र पुरोहित ,इन्दु नौडियाल ,लेखराज ,नितिन मलेठा ,हिमाशु चौहान ,अनन्त आकाश ,भगवन्त पयाल ,राजेश,प्रदीप ,शैलेंद्र आदि बड़ी संख्या किसान सभा कार्यकर्ता शामिल थे ।