Home उत्तराखंड कोरोना संकट: बाहरी राज्यों से उत्तराखंड में आवाजाही के लिए नई गाइडलाइंस...

कोरोना संकट: बाहरी राज्यों से उत्तराखंड में आवाजाही के लिए नई गाइडलाइंस जारी

319
0

संवाददाता

देहरादून, 20 सितंबर।  उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रदेश  सरकार ने बाहरी प्रदेशों से राज्य में आवाजाही के लिए  नई गाइडलाइन जारी की है। नई गाइडलाइंस के अनुसार, उत्तराखंड में बाहर से आने वालों के लिए रजिस्ट्रेशन करना अब भी अनिवार्य होगा। यह प्रक्रिया पहले की तरह स्मार्ट सिटी वेब पोर्टल पर पूरी की जानी है। सभी यात्रियों को अपने जरूरी दस्तावेज रजिस्ट्रेशन के दौरान पोर्टल पर अपलोड करने होंगे।

इसके अलावा जिला प्रशासन की ओर से राज्य की सीमाओं पर स्थित  सभी चैक पोस्ट पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है। एअरपोर्ट, रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर भी इसकी व्यवस्था होगी। गाइडलाइंस के तहत, सिंप्टोमैटिक व्यक्ति को एंटीजन टेस्ट से गुजरना होगा। अगर एंटीजन टेस्ट पॉजिटिव आया तो निर्धारित एस ओ पी का पालन किया जाएगा। व्यापार, परीक्षा व उद्योगों में निजी कार्यों के लिए आने वाले लोग, जो 7 दिन के अंदर वापस जाने वाले हों, वह अपने कार्य कर सकते हैं, लेकिन उन्हें अपने स्वास्थ्य की लगातार मॉनिटरिंग करना जरूरी होगा और अगर किसी तरीके के सिम्टम्स दिखाई दिए तो लोकल हेल्थ अथॉरिटी को बताना अनिवार्य होगा। वहीं प्रदेश में लंबे समय तक आने वालों को होम क्वारंटीन या फिर संस्थागत क्वॉरेंटीन में रखा जाएगा। 10 दिन जहां वह अपनी हेल्थ का खुद ध्यान रखेंगे, अगर किसी तरीके के लक्षण आएंगे तो फिर लोकल हेल्थ अथॉरिटी को बताया जाएगा। इसलिए घर का जो भी पता बताया जाए वह सही बताया जाए। जिलाधिकारी  इसकी रेंडम चेकिंग करेंगे और अगर गलत पाया गया तो गंभीर कार्यवाही ऐसे लोगों के खिलाफ होगी।  इंटर स्टेट व्यवस्था के तहत उत्तराखंड आने वाले ऑफिशियल केंद्रीय सरकार के मंत्री, राज्य सरकार के मंत्री, चीफ जस्टिस, सुप्रीम कोर्ट के जज, हाई कोर्ट के जज, जिला कोर्ट के जज, एडवोकेट जनरल और तमाम सरकारी अधिकारी कर्मचारी जो सरकारी काम के लिए आ रहे हैं उनको qurentine नहीं होना पड़ेगा।  उत्तराखंड के अधिकारी जो अन्य राज्यों में गए हैं और 5 दिन से ज्यादा वहां रहे हैं, उनके शंशशंशलिए टेस्ट कराना अनिवार्य होगा।  जो भी लोग जो राज्य से बाहर लगभग 5 दिन तक रहे हों, उन्हें क्वॉरेंटाइन से छूट रहेगी।  पर्यटकों के लिए भी सरकार ने गाइडलाइन जारी की है। इसके तहत अब होटल में कम से कम दो रातों का रिजर्वेशन कराना अनिवार्य होगा। इसके अलावा जो 96 घंटे पहले अपनी कोरोनावायरस टेस्ट की रिपोर्ट दिखाएगा राज्य में घूमने की पूरी छूट रहेगी लेकिन अगर ऐसा नहीं होगा तो बॉर्डर चेक पोस्ट पर एंटीजन टेस्ट करवाया जाएगा अगर होटल में जाएंगे तो होटल की तरफ से भी प्राइवेट लैब में टेस्ट कराने की फैसिलिटी उपलब्ध रहेगी यानी उत्तराखंड आने वाले पर्यटक को हर हाल में कोरोनावायरस करवाना होगा। राज्य सरकार ने एडवाइजरी जारी करते हुए साफ कहा है कि 65 साल से ज्यादा प्रेगनेंट वूमेन और 10 साल से कम के बच्चों को घर के बाहर न घूमने दिया जाएगा।