Home उत्तराखंड विरोध: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने किसान विरोधी कानून के खिलाफ...

विरोध: पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने किसान विरोधी कानून के खिलाफ रखा मौन एवं उपवास

124
0
संवाददाता
देहरादून, 18 सितम्बर।
पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने आज गांधी पार्क में केन्द्र सरकार के तीन किसान विरोधी अध्यादेश, जिन्हें संसद के माध्यम से कानून बनाकर किसानों की कमर तोड़ने की साजिश की गई है, के विरोध में अपना पूर्व निर्धारित मौन व्रत व उपवास प्रातः 09-45 पर आरम्भ किया। हालांकि हरीश रावत 9 बजकर 20 मिनट पर गांधी पार्क पहुॅचे। उन्होंने पार्क के अन्दर जाकर महात्मा गांधी की मूर्ति पर पुष्पाजंलि अर्पित कर ठीक 09 – 45 से 11-45 तक मौन व्रत व उपवास पर बैठे। उपवास-मौन व्रत समाप्ति पर उन्होंने कहा कि देश भर के किसान उपरोक्त तीनों काले कानूनों के विरुद्ध आन्दोलन कर रहे हैैं। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के नेतृत्व में भी किसान उपरोक्त काले कानूनों के विरुद्ध अपनी आवाजें बुलंद कर चुके हैं। तीनों कानूनों को संसद में पास कराये जाने के कुप्रयास के विरुद्ध मेरा ये उपवास-मौन व्रत है। उन्होंने कहा कि लोकसभा में एक विधेयक पास भी हो चुका है। पूरे देश का किसान आज आशंकित है कि उनकी जमीन व किसानों के अधिकार सब खतरे में हैं। डैच् यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य, जो कि किसानों को उसकी फसल पर एक न्यूनतम मूल्य की गारंटी होता है, उसको भी समाप्त कर कारपोरेट जगत की कम्पनियों के हितों के लिये खेती व किसानों को बर्बाद करने का षंडयत्र किया जा रहा है। आज मैं उसी षड़यत्र के विरुद्ध इस उपवास व मौन व्रत पर बैठा हूं। पंजाब, उत्तराखंड व देश के किसानों के साथ मैं अपनी भावनात्मक एकता प्रकट करना चाह रहा हूं। यही अहिंसात्मक सत्याग्रह का रास्ता गांधी बाबा ने दिखाया था। वहीं उन्होंने बेरोजगारी पर भी केन्द्र व राज्य सरकार को घेरते हुए कहा कि सरकार की गलत आर्थिक नीतियों के कारण करोड़ों लोग बेरोजगार हो गये हैं। तमाम सरकारी व निजी छोटे बड़े उद्योगों से लोगों को रोजगार से वंचित किया जा रहा है। पहले से चौपट की गई अर्थव्यवस्था के प्रभाव के कारण व लॉकडाउन में भी लाखों करोड़ों लोगों को रोजगार खोना पड़ा है। सरकारें या तो परिक्षाएं नहीं करा रही हैं या परिक्षाओं के नतीजे घोषित नहीं किये जा रहे हैं और जो नतीजे पूर्व में घोषित हो चुके हैं उनमें नियुक्तियां नहीं की जा रही हैं। देश व राज्य में लाखों करोड़ों पद रिक्त पड़े हैं। बेरोजगार दर दर की ठोकर खाते घूम रहे हैं।
उन्होंने कहा कि देश के अन्दर बेराजगारी की दर विभिन्न क्षेत्रों में 14 से 27 प्रतिशत के आस पास है, परन्तु केन्द्र सरकार चुप्पी मारे बैठी है। श्री रावत ने उत्तराखंड में अपने कार्यकाल में रोजगार के अवसर उत्पन्न करने वाली विभिन्न योजनाओं का खाखा भी खींचा और कहा कि उनके कार्यकाल में विभिन्न विभागों में हजारों नियुक्तियां की गईं थीं, अधिनस्थ कर्मचारी चयन आयोग सहित कई कार्यक्रमों के माध्यम से नियुक्तियां की गई थीं। मगर आज तो बेरोजगार युवाओं के सामने भयावाह स्थिति खड़ी है। खेती के हल को प्रतीकात्मक रूप से कंधे में रखकर प्रदर्शित किया गया।
हालांकि उन्होंने कार्यकर्ताओं को कोरोना महामारी से बचाव की खातिर मौन उपवास पर शामिल न होने का आग्रह किया था परन्तु फिर भी काफी कांग्रेस कार्यकर्ता व नेता वहां उपवास पर पहुंचे। मौन व्रत व उपवास को ठीक 11-45 पर गुरु गोविन्द सिंह गुरुद्वारा के ग्रन्थी सरदार बूटा सिंह ने उनको जूस पिलाकर उनका उपवास खुलवाया। उपरोक्त जानकारी पूर्व मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार सुरेन्द्र कुमार ने जारी की। इस अवसर पर पूर्व मंत्री मातवर सिंह कंडारी, प्रभुलाल बहुगुणा, जोत सिंह बिष्ट, पूरन सिंह रावत, सुशाल राठी, नंदन सिंह बिष्ट, मनीष नागपाल, गुलजार अहमद, प्रमोद गुप्ता, मोहन काला, आशा मनोरमा डोबरियाल शर्मा, कमलेश रमन, गरिमा दसौनी, शान्ति रावत, परिणीता डोभाल, अनुराधा तिवारी, साधना तिवारी, सरदार अमरजीत सिंह, विशाल मौर्या, रितेश क्षेत्री, हेमा पुरोहित, विकास नेगी, श्याम सिंह नेगी, विनोद चौहान, मौ. मुस्तफा व सौरभ मंमगाई आदि लोग प्रमुख रुप से उपस्थित रहे।