Home उत्तराखंड शोक: सीपीएम नेता ज्योति ठाकुरी का आकस्मिक निधन, विभिन्न जन संगठनों ने...

शोक: सीपीएम नेता ज्योति ठाकुरी का आकस्मिक निधन, विभिन्न जन संगठनों ने जताया दु:ख

168
0
संवाददाता
देहरादून, 16 फरवरी। गरीब, कमजोर और मेहनतकश तबके  के बुनियादी हकों के लिए लड़ने वाली और जनमुद्दों से जुड़े संघर्षों में हमेशा सक्रिय भागीदारी निभाने वाली ज्योति ठाकुरी अब नहीं रही।  उत्तराखंड जनवादी महिला समिति की प्रांतीय उपाध्यक्ष रही ज्योति ठाकुरी का रविवार को अचानक  निधन हो गया। वे 55 वर्ष की थीं।  श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में करीब तीन दिन पहले  उनके बेटे 28 वर्षीय पुत्र शैली  के सिर का आपरेशान  हुआ था। वे इन दिनों उसी का इलाज कराने में व्यस्त थीं। वह हर दिन अस्पताल जा रही थीं। 14 फरवरी को शाम करीब पांच बजे अस्पताल में ही उन्हें घबराहट महसूस होने लगी। इस पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां कुछ ही देर बाद उनका निधन हो गया। उनके निधन से उत्तराखंड में जनसंगठनों से जुड़े लोगों में शोक की लहर है।
ज्योति ठाकुरी देहरादून के रायपुर में निवास करती रही थीं। उनके पति रक्षा संस्थान के सेवानिवृत्त हुए थे। उनके दो बेटे हैं। वह कुछ वर्षों से कैंसर से पीड़ित थी। बताया जा रहा है कि उनके स्वास्थ्य में काफी सुधार हो रहा था। उनकी मौत का कारण दिल का दौरा पड़ना बताया जा रहा है।
दिवंगत कामरेड ज्योति ठाकुरी कैंसर की बीमारी से जूझने के बावजूद निरन्तर समाज के लिये अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रही थीं। वह 90 के दशक में रायपुर क्षेत्र में जनता की बुनियादी समस्याओं को लेकर सक्रिय हुई थीं। इस क्षेत्र में जनवादी महिला समिति के संगठन की इकाई का उन्होंने विस्तार किया। महिलाओं के प्रत्येक सवाल पर वह सदैव आगे रही। उन्होंने गोर्खाली अधिकारों तथा नेपाली भाषा को मान्यता देने के सवाल पर हुए आन्दोलन में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। रक्षा संस्थान मजदूरों के साथ ही वह महिलाओं के अधिकारों के संघर्ष में सदैव वे आगे रही। जनवादी महिला समिति के राष्ट्रीय सम्मेलनों में उन्होंने कई बार प्रतिनिधित्व किया। वह सीपीएम की आजीवन सदस्य थीं। साथ ही सीपीएम में देहरादून जिला कमेटी की सदस्य रहीं।