Home उत्तराखंड मुहिम: संविधान की रक्षा के लिये 20 से 27 अगस्त तक अभियान...

मुहिम: संविधान की रक्षा के लिये 20 से 27 अगस्त तक अभियान चलाएगी  CPIM

95
0
संवाददाता
देहरादून-
मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने कहा है कि मोदी सरकार के नये भारत के निर्माण का आह्वान जनता की भावनाओं एवं आकांक्षाओं के साथ धोखा है जो असहिष्णुता तथा भेदभाव पर आधारित है। पार्टी का कहना है कि मोदी सरकार संघ संचालित एजेण्डे को लागू कर रही है जो कि घोर प्रतिक्रियावादी है। उसका मुख्य मकसद विरोधी विचार, अल्पसंख्यक, दलित, आदिवासी, महिला का उत्पीड़न तथा दमन है।  पार्टी का आरोप है कि इस प्रकार संघ का विचार पूर्णतः प्रतिगामी है , संवैधानिक संस्थाओं तथा गौरवशाली परम्पराओं का अनादर करना है । सीपीएम का मानना है कि आज मोदी सरकार आपदा में जनता की मदद करने के बजाय इसे एक अवसर के रूप में इस्तेमाल कर रही है। सरकार के हर कार्य मेंं संघ घुसपैठ कर अपने हिन्दुत्व के एजेण्डे को लागू कर रहा है । सरकार का मुख्य उद्देश्य निजीकरण तथा युद्धोन्माद की स्थिति पैदाकर बड़े घरानों की सेवा करना है । मोदी सरकार ने नई शिक्षा नीति के माध्यम से देश की शिक्षा व्यवस्था पर बड़ा हमला कर दिया है । आने वाले दिनों में बची खुची शिक्षा भी जनता के हाथों से छिन जाएगी । कुल मिलाकर मोदी सरकार घोर जनतंत्र विरोधी है । पार्टी के राज्य मुुख्यालय में आयोजित बैठक में निर्णय लिया गया कि इस सबके विरोध मेेंं सीपीएम 20 अगस्त से अभियान छेेेड़ेगी। इस अभियान में जन-जन के बीच मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों एवं देश की संवैधानिक व्यवस्था को कमजोर करने के सन्दर्भ में अवगत करवा कर जनता को मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ संगठित करने  का कार्य करेगी।
बैठक की अध्यक्षता कामरेड कमरूद्दीन ने की ।
इस अवसर पर पार्टी राज्य सचिव राजेन्द्रसिंह नेगी, सुरेन्द्र सिंह सजवाण, राजेंद्र पुरोहित, अनन्त आकाश, लेखराज, माला गुरूंग, शम्भु प्रसाद मंमगाई, कृष्ण गुनियाल, शेरसिंह, भगवंत पयाल, विजय भट्ट, विनोद कुमार, सुन्दर थापा, सुधा देवली, पुरूषोत्तम बडोनी आदि ने विचार व्यक्त किये।