Home उत्तराखंड समीक्षा:   सिविल जज ने दिये स्वास्थ्य संबंधी  गाइडलाइंस का अनुपालन कराने के...

समीक्षा:   सिविल जज ने दिये स्वास्थ्य संबंधी  गाइडलाइंस का अनुपालन कराने के निर्देश

152
0

संवाददाता

देहरादून, 27 सितंबर।  उच्च न्यायालय के निर्देशों के अनुरूप जिला स्तर पर कोविड-19 के संक्रमण से बचाव को लेकर गठित जिला स्तरीय माॅनीटिरिंग कमेटी की बैठक सिविल जज सी.डि. सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण नेहा कुशवाहा की अध्यक्षता में जिला कार्यालय सभागार में सम्पन्न हुई।

 

कोविड-19 के संक्रमण एवं बचाव के सम्बन्ध में कमेटी के सदस्यों से विचार विमर्श करते हुए श्रीमती नेहा कुशवाहा ने उच्च न्यायालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के परिपेक्ष्य में जिला स्तर पर गठित समिति को अवगत कराया कि जनपद स्तर पर कन्टेंनमेंट जोन एवं कोविड केयर सेन्टरों में भारत सरकार के चिकित्सा एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की गाईडलाईन का पूर्ण पारदर्शिता के साथ अनुपालन सुनिश्चित कराया जाय।

 

उन्होंने बताया कि लोगों को कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग एवं सेनिटाइजेशन के सम्बन्ध में जागरूक किया जाय तथा विशेष साफ-सफाई व्यवस्था चलाते हुए परिवारों के बुढे बुजुर्गों एवं बच्चों के साथ ही मुधमेह, हाई एवं लो ब्लड प्रेशर, टीबी, हदृय रोग से ग्रसित लोगों पर विशेष निगरानी की जाय। उन्होंने कहा कि कन्टेंनमेंट जोन में लोगों की विशेष निगरानी के साथ ही क्षेत्रान्तर्गत फल-सब्जी, खाद्य सामग्री, दवा, दूग्ध एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित की जाय। उन्होंने कोविड-19 संक्रमण से बचाव के लिए जागरूकता की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि अनावश्यक घरों से बाहर ना निकलें, लोगों से मिलने पर दूर से अभिवादन करें, हाथ ना मिलायें तथा ना ही गले मिलें, कोविड-19 संक्रमण से बचाव हेतु मास्क के साथ शारीरिक दूरी महत्पूर्ण हथियार हैं। अपने हाथ समय-समय पर हैंड सैनिटाइजर या साबुन से धोयें। उन्होंने बताया कि कन्टेंनमेंट जोन एवं कोविड केयर सेन्टरों का रेंडमली निरीक्षण किया जायेगा ताकि वहां पर लोगों की किसी प्रकार की परेशानी से सम्बन्धितों को अवगत कराया जा सके। इसके अलावा पैरालीगल वाॅलिन्टियरों के माध्यम से भी जानकारी प्राप्त की जायेगी।

 

उन्होंने साफ-सफाई व्यवस्थाओं के लिए नगर निगम के कूड़ा वाहनों के माध्यम से भी प्रचार कराये जाने पर बल दिया।
   बैठक में सैम्पलिंग एवं सर्विलांस की जानकारी देते हुए अपर जिलाधिकारी प्रशासन अरविन्द पाण्डेय द्वारा अवगत कराया गया कि सीमा पर आ रहे लोगों की सैम्पलिंग के साथ ही आशा एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्तियों द्वारा सर्विलांस की कार्यवाही की जा रही है। जिला प्रशासन द्वारा मास्क ना पहनने तथा सोशल डिस्टेसिंग का पालन ना करने वालोें पर चालान की कार्यवाही की जा रही है। जिला स्तरीय माॅनीटिरिंग समिति की बैठक में जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ अनूप कुमार डिमरी ने अवगत कराया कि आरटीपीसीआर एवं एन्टीजन टेस्ट के अलावा मोबाईल क्लीनिक के माध्यम से भी लोगों की सैम्पलिंग का कार्य चलाया जा रहा है तथा तीलू रौतेली एवं महाराणा प्रताप स्टेडियम में बनाये गये कोविड केयर सेन्टरों में लोगों की सैम्पलिंग की जा रही है। इसके अलावा 8 निजी लैब्स की ओर से भी सैम्पलिंग की जा रही है।

 

बैठक के दौरान पुलिस अधीक्षक नगर श्वैता चौबे ने अवगत कराया कि बिना मास्क 1.22 लाख व्यक्तियों एवं सोशल डिस्टेसिंग का पालन न करने वाले का चालान कर 1.60 करोड़ का राजस्व प्राप्त किया गया। साथ ही लोगों को कोविड-19 के संक्रमण से बचने के लिए पुलिस द्वारा जागरूकता कार्यक्रम भी चलाया जा रहा है। आईसीएमआर के दिशा-निर्देशों के अनुपालन में एआरटीओ ने बताया कि सार्वजनिक परिवहन के तहत सोशल डिस्टेसिंग का पालन न करने पर 70 आटो एवं 30 निजी क्षेत्र की बसों का चालान किया गया है तथा सम्बन्धित चालकों व वाहन स्वामियों को हिदायत दी गई है कि वे दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित करें।

 

बैठक में परिवहन विभाग को सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का परिपालन सुनिश्चित करने हेतु आटो, टैम्पों एवं बसों में स्टीकर का उपयोग करने के निर्देश दिये। बैठक में बार एसोएिशन के अध्यक्ष एवं शासकीय अधिवक्ता द्वारा कोविड-19 संक्रमण के बचाव के सम्बन्ध में  उच्च न्यायालय द्वारा जारी दिशा निर्देशों का अनुपालन करने हेतु अपने सुझाव रखे। बैठक में पुलिस अधीक्षक नगर श्वैता चौबे, अपर जिलाधिकारी प्रशासन अरविन्द पाण्डेय, अपर आयुक्त नगर निगम मोहन सिंह बर्नियां, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ अनूप डिमरी, बार ऐसोसिएशन के अध्यक्ष मनमोहन कण्डवाल, शासकीय अधिवक्ता राजीव आचार्य, उप जिलाधिकारी मसूरी मनीष कुमार, विकासनगर सौरभ असवाल, सदर प्रेमलाल, सहायक सम्भागीय परिवहन अधिकारी रश्मि पन्त, जिला पूर्ति अधिकारी जसवंत सिंह कण्डारी, चिकित्साधिकारी मसूरी डाॅ मौहम्मद जावेद समेत अन्य सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।