Home उत्तराखंड राज-काज: कोरोना संकट को लेकर सीएम रावत ने अधिकारियों को दिए कड़े...

राज-काज: कोरोना संकट को लेकर सीएम रावत ने अधिकारियों को दिए कड़े दिशा-निर्देश

86
0
गजे सिंह बिष्ट
देहरादून, 03 अक्टूबर। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत प्रदेश में बढ़ते जा रहे कोरोना संकट को लेकर गंभीर  रुख अपनाते हुए संक्रमण की रोकथाम के लिए की गई सरकारी व्यवस्था की कड़ी निगरानी कर रहे हैं। इसी सिलसिले में उन्होंने शनिवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जिलाधिकारियों व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से अपडेट लिया। मुख्यमंत्री रावत ने कोविड -19 की प्रभावी रोकथाम के लिए अधिकारियों को कड़े दिशा-निर्देश दिए और उन पर गंभीरता के साथ काम करने को कहा।
उन्होंने कहा कि सप्ताहभर से कोरोना पाॅजिटव मामले कम आ रहे हैं, लेकिन अभी सतर्कता बरतने की जरूरत है। आने वाले कुछ महीने अभी और भी चुनौतीपूर्ण होंगे। इससे निपटने के लिए आवश्यक व्यवस्थाएं की जाय। मास्क के प्रयोग की अनिवार्यता और सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन कराया जाय ताकि संक्रमण को रोका जा सके। मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग की नियमित माॅनिटरिंग की जाय। सचिवालय में हुई वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के अवसर पर आयुष सचिव डी सेंथिल पांडियन, सचिव डाॅ पंकज पाण्डेय, दिलीप जावलकर, शैलेष बगोली, एसए मुरुगेशन, आईजी अभिनव कुमार, संजय गुंज्याल, अपर सचिव युगल किशोर पंत, स्वास्थ्य महानिदेशक डाॅ अमिता उप्रेती आदि भी मौजूद रहे।
 मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि शिकायत आने पर अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाय। कोविड के बारे में सोशल मीडिया या अन्य माध्यमों से भ्रामक प्रचार करने वालों पर एफआईआर दर्ज कर ऐसे लोगों पर सख्त कारवाई भी की जाय।
   मुख्यमंत्री ने कहा कि अनलॉक 5 में विभिन्न गतिविधियों के लिए छूट मिल गई है। पर्यटकों की संख्या अब तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में पर्यटक स्थलों पर थर्मल स्क्रीनिंग और सैंपल टेस्टिंग के लिए बूथ बनाए जाएं। वहीं, यह भी व्यवस्था की जाय कि पर्यटकों के साथ शालीनता पूर्ण व्यवहार हो।
सचिव स्वास्थ्य अमित नेगी ने बताया कि उत्तराखण्ड में युवाओं में कोरोना पाॅजिटव दर अधिक है। इसकी रोकथाम के लिए विशेष ध्यान देना होगा। इम्यूनिटी बढ़ाने वाले पदार्थों के बारे में लोगों को अधिक जागरूक करने की जरूरत है। पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था अशोक कुमार ने कहा कि थाना एवं चैकियों में कोरोना से बचाव के उपायों के होर्डिंग लगवाए जा रहे हैं। भीड़ प्रबंधन, मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो, इसके लिए रणनीति बनाई जायेगी।