Home उत्तराखंड सियासत: विधायक उमेश शर्मा काऊ के पत्र से भाजपा असहज, बहुगुणा गुट...

सियासत: विधायक उमेश शर्मा काऊ के पत्र से भाजपा असहज, बहुगुणा गुट का असंतोष उजागर 

136
0
 संवाददाता
देहरादून, 5 नवंबर। उत्तराखण्ड की राजनीति में आये दिन लैटर बम फूटना अब कोई नई बात नहीं रह गई है। अब एक और लैटर ने भाजपा संगठन और सरकार में हड़कंप मचा दिया है। बहुगुणा कैंप ने एक महिला नेता के खिलाफ मोर्चा खोला है जबकि महिला ने खुद पर लगे आरोपों को निराधार बताया है।
सन्निर्माण एवं भवन कर्मकार कल्याण बोर्ड में सदस्य बनी इंदुबाला के खिलाफ रायपुर विधायक उमेश शर्मा काऊ ने प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत को पत्र लिखा है। इस पत्र के माध्यम से इंदुबाला पर आरोप लगाया हैै कि उन्होंने भाजपा के प्रशिक्षण शिविर की सार्वजनिक सभा में पूर्व सीएम विजय बहुगुणा के खिलाफ अभद्र टिप्पणी की और केदारनाथ आपदा के राहत निर्माण कार्यों में गड़बड़ी का आरोप लगाया है। ज्ञातव्य हो कि यह आरोप इंदुबाला के श्रम बोर्ड में नियुक्ति के बाद लगाया गया है।
इस प्रकरण को लेकर बहुगुणा कैम्प की नाराजगी बढ़ गयी है। गौरतलब है कि सन्निर्माण कर्मकार बोर्ड से मंत्री डा. हरक सिंह रावत को हटाए जाने के बाद से बहुगुणा कैंप के लोग पहले ही सरकार से नाराज चल रहे हैं। उसके बाद डा. हरक सिंह रावत की करीबी माने जाने वाली दमयंती रावत व अन्य सदस्यों को भी पद से हटा दिया गया।
जिसके बाद नये बोर्ड का गठन किया गया है। अब इन नाराज सदस्यों ने देहरादून की इंदुबाला के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। विधायक उमेश शर्मा काऊ ने इंदुबाला की शिकायत प्रदेश अध्यक्ष से की है। समझा जा रहा है कि विधायक पूर्व सीएम बहुगुणा के सार्वजनिक तौर पर हुए अपमान से आहत होने के  बहाने भाजपा को अपनी नाराज़गी का आभास करा देना चाहते हैं। उन्होंने शीर्ष नेतृत्व से अपील की है कि इंदुबाला के खिलाफ कार्रवाई की जाए।
वहीं बोर्ड की सदस्य इंदुबाला का कहना है कि इस बारे में उन पर लगाये गये आरोप निराधार हैं। उन्होंने पूर्व सीएम बहुगुणा पर कोई आरोप नहीं लगाया है। इंदुबाला का कहना है कि उन्होंने अपने भाषण में पूर्ववर्ती सरकार के बारे में बोला, जिसमें उन्होंने पूर्व सीएम विजय बहुगुणा को लेकर कोई अपशब्द नहीं बोले। पार्टी नेतृत्व कांग्रेस से दल बदल कर भाजपा में आए बहुगुणा गुट के विधायक के पत्र को कितना तवज्जो देती है, अभी कुछ नहीं कहा जा सकता।