Home उत्तराखंड ​शाबाश: बहादुर बेटी ने तेंदुए से भिड़कर बचाई अपनी जान, घायल हालत...

​शाबाश: बहादुर बेटी ने तेंदुए से भिड़कर बचाई अपनी जान, घायल हालत में अस्पताल में भर्ती

96
0
संवाददाता
भिकियासैंण, 03 अक्टूबर। पहाड़ की बेटियां पहाड़ सी अडिग और मजबूत होती हैं। हर मुसीबत का सामना बहादुरी से करती हैं। अल्मोड़ा जिले के भिकियासैंण विकासखंड के अदबौड़ा मोहनरी गांव की उमा ने भी ऐसा ही कुछ कर दिखाया।
हुआ यूं कि 26 साल की उमा पुत्री प्रताप सिंह शाम के 3 बजे घास काटने गांव की सड़क के नजदीक शिव मंदिर के पास गई थी।

इसी बीच घात लगा कर बैठे तेंदुए ने  उमा पर हमला कर दिया।  लेेकिन उमा ने घबराने की बजाय उससे भिड़ने की हिम्मत दिखाई।तेंदुए और उमा के बीच गुत्थमगुत्था हो गई। उमा ने बहादुरी दिखाते हुए दरांती से तेंदुए पर वार कर दिया। अन्य महिलाओं ने भी शोर मचाना शुरू कर दिया। तेंदुआ दरांती के वार से घबरा कर भाग गया। इसी संघर्ष में तेंदुए ने उमा के हाथ में पंजे गड़ा दिए।
महिलाओं ने इसकी सूचना ग्राम प्रधान नंदी देवी को दी। प्रधान ने वन विभाग को तुरंत सूचना दी। उमा को रानीखेत राजकीय अस्पताल में ले जाया गया, जहां उसका उपचार चल रहा है। ग्रामीणों ने वन विभाग के खिलाफ आक्रोश व्यक्त कर तेंदुए को पकड़ने अथवा शूट करने की मांग की है। गौरतलब है कि इससे पूर्व  तेंदुआ भिकियासेंंण क्षेत्र के पंपोला एवं बडिकोट में एक बच्ची व महिला को अपना शिकार बना चुका है।