Home उत्तराखंड कुंभ मेलाः पुलिस की आंख, कान बनेंगे मेला क्षेत्र के ऑटो, विक्रम...

कुंभ मेलाः पुलिस की आंख, कान बनेंगे मेला क्षेत्र के ऑटो, विक्रम ई-रिक्शा संचालक

220
0

संवाददाता
हरिद्वार, 30 दिसंबर।

मेला नियंत्रण भवन के सभागार में डीआईजी कुंभ मेला संजय गुंज्याल एवं एसएसपी कुम्भ मेला जन्मजेय खंडूरी द्वारा ऑटो रिक्शा, विक्रम एवं ई रिक्शा संघ हरिद्वार के पदाधिकारियों के साथ आगामी कुम्भ मेला 2021 की व्यवस्थाओं को लेकर गोष्ठी की गई।
श्री सत्यनारायण शर्मा अध्यक्ष महासंघ ने हरिद्वार शहर क्षेत्र में यात्री स्टैंड की संख्या बढ़ाये जाने की बात कही जिस पर आईजी गुंज्याल ने कहा कि हर की पैड़ी के आसपास के कोर एरिया में कोई भी यात्री स्टैंड बनाना मेला क्षेत्र की पैदल और वाहन यातायात व्यवस्था की दृष्टि न सम्भव है न ही उचित है। उक्त कोर क्षेत्र को छोड़कर कर यदि अन्य कोई उचित स्थान यात्री स्टैंड के लिये संघ की नजर में है तो वह अवगत कराएं ताकि उन स्थानों पर यात्री स्टैंड बनाये जाने पर विचार किया जा सके। मेले के दौरान बाहरी वाहनों के संचालन पर प्रतिबंध लगाने से सम्बंधित बात पर एसएसपी कुम्भ 2021 ने कहा कि बाहरी आने वाले ऑटो, ई रिक्शा एवं विक्रम वाहनों को पूर्णतः प्रतिबंधित तो नही किया जा सकता परन्तु उनके सुव्यवस्थित संचालन के लिये कोई कारगर व्यवस्था बनाने का प्रयास किया जाएगा।
आईजी ने कहा कि कुम्भ के दौरान मेले हेतु निर्धारित पार्किंग एवं रेलवे स्टेशन से निकटवर्ती घाट तक श्रद्धालुओं को लाने ले जाने के लिये शटल बस सेवा के अतिरिक्त ऑटो, विक्रम और ई रिक्शा के संचालन की योजना पर भी विचार किया जा रहा है। इस योजना के अंतर्गत हर पार्किंग व रेलवे स्टेशन से निकटवर्ती घाट तक का रूट तय करते हुए उस रुट पर संचालित होने वाले वाहनों की संख्या और किराया निर्धारित किया जाएगा। हर रुट के लिये अलग-अलग कलर स्कीम लागू की जाएगी।
आईजी द्वारा संघ के पदाधिकारियों से कहा गया कि वे उक्त कार्य के लिये अपने पदाधिकारियों की एक समिति बनाएं और पुलिस उपाधीक्षक यातायात कुंभ मेला प्रकाश देवली से गहन विचार-विमर्श करते हुए उक्त शटल सेवा को लागू करने का लिये एक सुव्यवस्थित कार्ययोजना तैयार करें।
आईजी द्वारा संघ के पदाधिकारियों को आश्वस्त किया गया कि मेला पुलिस की ईमानदार कोशिश रहेगी कि कुंभ मेला के दौरान ई रिक्शा, ऑटो रिक्शा एवं विक्रम चालक बंधुओं को भी परिवार पालन के लिये कमाई का सुअवसर मिले व मेला सभी की तरह उनके लिए भी फलदाई सिद्ध हो। परन्तुं इसके लिये आवश्यक है कि ऑटो रिक्शा, विक्रम एवं ई रिक्शा चालक भी विभिन्न स्तरों पर पुलिस व्यवस्था का पालन करें और पुलिस के सहायक बने। मेला पुलिस को अपेक्षा है कि सभी वाहन चालक पहले की तरह ही मेला पुलिस के आंख-कान बने रहेंगे।
पुलिस उपाधीक्षक यातायात कुम्भ मेला प्रकाश देवली द्वारा उपस्थित पदाधिकारियों से कहा कि मेले के दौरान कोई आकस्मिक परिस्थितियां बने और कोई रूट बंद करना पड़े तो परिस्थिति को मद्देनजर रखते हुए सभी वाहन चालक अपने हितों को पीछे रखते हुए मेला पुलिस का सहयोग करें। इस पर संघ के पदाधिकारियों द्वारा यातायात योजना में बदलाव की सूचना समय से देने का आग्रह किया गया ताकि उक्त सूचनाओं को समय पर वाहन चालकों तक पहुंचाया जा सके।
सत्यनारायण शर्मा अध्यक्ष महासंघ द्वारा बताया गया कि मेले के दौरान हमारे संघ के 2-2 पदाधिकारी ऐसे सभी स्थानों पर नियुक्त रहेंगे जहाँ किसी विवाद की संभावना हो या जो स्थान यातायात योजना की दृष्टि से संवेदनशील हों। संघ का प्रयास रहेगा वह हमेशा की मेला पुलिस के कंधे से कंधा मिलाकर कुम्भ मेला सकुशल सम्पन्न कराने में पूर्ण सहयोग करे और मेला पुलिस और ऑटो, ई रिक्शा, विक्रम चालकों के मध्य अनुकरणीय समन्वय बना रहे।