Home उत्तराखंड आंदोलन: कृषि बिलों पर भड़की किसान सभा

आंदोलन: कृषि बिलों पर भड़की किसान सभा

106
0

 

संवाददाता

देहरादून, 1 दिसंबर। केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ देहरादून के गांधी पार्क के बाद किसान सभा ने प्रदर्शन कर विरोध जताया। किसान सभा के नेताओं का कहना था कि कृषि कानून खेती के खिलाफ हैं और कारपोरेट घरानों के हितों को साधने वाले हैं।  यहां आयोजित एक सभा में वक्ताओं ने कहा कि केन्द्र की मोदी सरकार ने जिन तीन कृषि कानूनों को अध्यादेश लाकर संख्याबल के आधार कानूनी जामा तो पहना लिया है, लेकिन इस पूरी प्रकिया में न तो किसान संगठनों से बात की न ही किसानों से रायशुमारी करनी वाजिब समझी। अब जब किसान अपने हकों की मांग को लेकर आगे आये हैं तो केन्द्र सरकार व भाजपा की राज्य सरकारे भी किसानों को डण्डे की ताकत पर धमकाने का काम कर रही है। आन्दोलन की गलत व्याख्या प्रस्तुत कर रही है। जिसको लेकर आंदोलनरत किसान व किसान संगठन सचेत हैं क्योंकि यह संघर्ष सरकार बनाम किसान हो गया है। यदि इसमें किसानों की हार होगी तो यह अवाम की हार भी होगी। इसलिए इस संघर्ष में सरकार को पीछे धकेलना व तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने पर विवश करना बहुत जरूरी है। सभी देशभक्त ताकतों को किसानों के इस आन्दोलन के साथ खड़ा होना होगा।