Home उत्तराखंड हताशा: ‘जीवन जीने की इच्छा खत्म हो गई’…लिख कर पुजारी ने खुद...

हताशा: ‘जीवन जीने की इच्छा खत्म हो गई’…लिख कर पुजारी ने खुद को मार ली गोली

177
0

संवाददाता
हरिद्वार, 10 नवंबर। हरिद्वार में भाजपा नेताओं के काफी करीबी रहे एक पुजारी ने अपनी लाइसेंसी रिवॉल्वर से खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली। उनके घर से मिले सुसाइड नोट में पुजारी ने जीवन जीने की इच्छा खत्म होने के की बात लिखी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार विनीत शास्त्री वाशिंकर निवासी शरद विहार कॉलोनी निकट अवधूत मंडल आश्रम में पूजा पाठ का काम करते थे। पूजापाठ के सिलसिले में वह हरिद्वार से बाहर भी जाया करते थे। रविवार की शाम विनीत शास्त्री ने अपने कमरे में जाकर रिवॉल्वर से खुद को गोली मार ली। गोली की आवाज सुनकर उनका परिवार कमरे में पहुंचा तो विनीत शास्त्री खून से लथपथ फर्श पर पड़े हुए थे। उन्हें तत्कालं रानीपुर मोड स्थित एक निजी अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।
पुजारी विनीत शास्त्री भाजपा नेताओं के काफी करीबी थे। भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से लेकर आरएसएस के शीर्ष पदाधिकारियों से भी उनकी खासी नजदीकी बताई जाती है। वे पूजा पाठ के माध्यम से बड़ी हस्तियों से जुड़े हुए थे।
उनके सोशल मीडिया अकाउंट मे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, सीएम त्रिवेंद्र रावत से लेकर देश के आला नेताओं के साथ उनके फोटो अपलोड हैं। देश के बड़े संतों में शुमार मुरारी बापू से भी उनकी सीधी पहचान थी। हालांकि हर कोई इस बात से हैरान है कि उन्होंने सुसाइड क्यों किया। इधर पुलिस ने भी अपनी पड़ताल शुरू कर दी है कि आखिर ऐसी क्या वजह रही थी कि विनीत शास्त्री को आत्महत्या करनी पड़ी।
उनके कमरे से जो सुसाइड नोट मिला है उसमें उन्होंने लिखा है कि उनकी जीने की इच्छा खत्म हो गई है। उनके द्वारा लिखा गया सुसाइड नोट मोबाइल फोन के नीचे बरामद हुआ। उनकी जेब से पांच जिंदा कारतूस मिले जबकि तीन लोड थे।