Home उत्तराखंड विरोध:  गैरसैंण में विधानसभा कूच की कोशिश पुलिस ने की नाकाम, नारेबाजी...

विरोध:  गैरसैंण में विधानसभा कूच की कोशिश पुलिस ने की नाकाम, नारेबाजी के साथ हुआ जोरदार प्रदर्शन 

58
0
राजेन्द्र सिंह बिष्ट
गैरसैण- गैरसैंण में आयोजित विधानसभा के बजट सत्र में दूसरे दिन जहाँ सदन के अंदर माहौल गरम नजर आया, वहीं सड़कों पर भी जमकर जोरआजमाइश हुई। एन एस यू आई व उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ ने सरकार विरोधी नारों के साथ जोरदार तरीके से राजधानी की मांग रखी।
बुधवार को मध्यान्ह 12 बजे एन एस यू आई के सैकड़ों युवा विधानसभा से 10 किमी दूर कालीमाटी के पास दुक्मुतासैण बैरियर पर जोरदार नारेबाजी के साथ पहुंचे और वहां तैनात पुलिस को बिना मौका दिए बैरियर पार कर आगे निकल गए। वहां पर तैनात पुलिस के जवान व अधिकारी देखते रह गए। एस यू आई के प्रदेश अध्यक्ष मोहन भंडारी की अगुवाई में तमाम युवा 3 किमी पैदल दूरी तय कर दिवालीखाल पहुंचे, जहाँ भारी संख्या में विधानसभा मार्ग को रोके पुलिस के जवानों से युवाओं का सामना हुआ। काफी देर तक युवा गैरसैंण-कर्ण प्रयाग राजमार्ग पर बैठ कर नारेबाजी करते रहे। इस दौरान एन एस यू आई प्रदेश oअध्यक्ष मोहन भंडारी ने युवाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि भाजपा ने चुनाव के समय गैरसैंण राजधानी बनाये जाने की बात अपने घोषणा पत्र में की थी किन्तु 3 वर्ष बीतने को हुए, इस दिशा में कुछ होता नजर नहीं आ रहा है।
वन दरोगा भर्ती घोटाले का जिक्र कर उन्होंने कहा कि अविलम्ब पुनः परीक्षा की जानी आवश्यक है। स्कूलों में रिक्त पड़े पदों पर नियुक्ति के साथ ही एसटी एससी छात्रों की स्कॉलरशिप बहाल किये जाने की मांग की, जब कि गैरसैंण के पजियाणा गांव निवासी सैनिक राजेन्द्र सिंह नेगी का तुरन्त पता लगाए जाने की बात कही। सभा पश्चात ज्यों ही युवाओं ने विधानसभा  कूच का आह्वान  किया वहां तैनात पुलिस ने पूरी ताकत के साथ उन्हें रोके रखा।
इस बीच जबरदस्त हंगामा हुआ। कुछ युवा बेरिकेट के ऊपर चढ़ गए। पुलिस ने बड़ी चालाकी से पीछे खड़े युवाओें को एक-एक कर पुलिस वाहन तक पंहुचाया। काफी देर तक बबाल के बाद किसी प्रकार पुलिस ने 2 वाहनों में भर कर युवाओं को मेहलचौरी अस्थायी जेल रवाना किया, किन्तु बमुश्किल 100 मीटर आगे बढ़ने के साथ ही कुछ युवा बस की खिड़कियों से बाहर निकल कर सड़क पर लेट गए। एक बार फिर दोनों पक्षों में जद्दो-जहद नजर आई। तुरन्त पुलिस ने वहां पहुंच कर फिर से युवाओं को बसों में ठूंस दिया और जेल रवाना किया। इस मौके पर एन एसयूआई प्रभारी अनुशेष शर्मा, गोपाल मोहन, गोविंद दशोनी, गौरव समग्र, गोकुल परिहार, निकेन्द्र नेगी, शौरभ ममगाईं, हरिओम भट्ट, प्रभात भंडारी, दीक्षा कण्डारी, रेणु, सोनी आदि सैकड़ों युवा उपस्थित थे।