Home उत्तराखंड मिसाल: बुजुर्ग  दर्शनी देवी रौथाण के ज़ज्बे को सलाम, पीएम केयर्स फंड...

मिसाल: बुजुर्ग  दर्शनी देवी रौथाण के ज़ज्बे को सलाम, पीएम केयर्स फंड में दिए 2 लाख रुपये

197
0
 
देहरादून- देश सेवा किसी खास उम्र या खास हैसियत की मोहताज नहीं होती। कभी भी और कैसे भी देश की सेवा की जा सकती है। बस, दिल में ज़ज्बा होना चाहिये। पहाड़ की एक और बुजुर्ग बेटी ने इसी ज़ज्बे का इज़हार कुछ अलग अंदाज में किया है। रुद्रप्रयाग जिले के  अगस्त्यमुनि ब्लाॅक की ग्राम पंचायत डोभा की  दर्शनी देवी रौथाण ने पीएम केयर्स फंड में 2 लाख का ड्राफ्ट सौंपा है। बुजुर्ग दर्शनी देवी रौथाण  के पति ने भी अतीत में देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दी थी। उनके पति शहीद कबोत्र सिंह  रौथाण भारतीय सेना में हवलदार के पद पर सेवारत थे, जिन्होंने  1965 के युद्ध में देश की रक्षा करते हुए  शहादत दी थी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पीएम केयर्स फंड व मुख्यमंत्री राहत कोष में सभी प्रदेश वासियों द्वारा किए जा रहे सहयोग के लिए आभार प्रकट किया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी ने इस महामारी के विरुद्ध संघर्ष करने के लिए बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया है, जिसमें कुछ लोगों ने तो अपने जीवन की जमा पूंजी ही इस बीमारी की रोकथाम के लिए समर्पित की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वृद्ध माता दर्शनी देवी रौथाण, जिनके पति शहीद कबोत्र सिंह रौथाण भारतीय सेना में देश की रक्षा करते हुए 1965 के युद्ध में शहीद हो गए थे, उन्होंने आज देश की सेवा हेतु पीएम केयर्स फंड में 2 लाख रुपये दान किये। सीएम रावत ने जनसेवा का भाव रखने वाली दर्शनी देवी रौथाण के जज्बे को सलाम किया है। उल्लेखनीय है कि  पूर्व में भी गौचर निवासी देवकी भंडारी ने अपने नाम को चरितार्थ करते हुए पीएम केयर्स फंड में 10 लाख का सहयोग दिया था, जो स्वयं किराये के मकान में रहकर पेंशन की धनराशि से जीवनयापन कर रही हैं। इसी तरह बुजुर्ग स्वतंत्रता संग्राम सेनानी साधु सिंह बिष्ट भी इसमें सहयोगी बने हैं। मुख्यमंत्री ने कहा-  ‘ये सभी लोग हमारे प्ररेणा स्रोत हैंं, जो हमेंं आज मानवता  पर आये हुए इस संकट का डटकर सामना करने का साहस देते हैंं।’  उन्होंने कहा-  ‘इस त्याग और दानशीलता की सद्धभावना के लिए मैं सभी प्रदेशवासियों का आभार प्रकट करते हुए आपको शत-शत नमन करता हूँ।’