Home उत्तराखंड लॉकडाउन: पर्यटन व्यवसाय पर पड़ा बड़ा असर, उत्तराखंड में फंसे हैं चार...

लॉकडाउन: पर्यटन व्यवसाय पर पड़ा बड़ा असर, उत्तराखंड में फंसे हैं चार हजार पर्यटक

71
0
देहरादून-  कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में 14 अप्रैल तक लाॅक डाउन किया गया है। उत्तराखंड में भी यह लॉकडाउन चल रहा है। लोगों को अपने अपने घरों में रहने की हिदायत दी गई है, जिसका कहीं स्वेच्छा  से और कहीं पुलिस और प्रशासन की कोशिशों से पालन हो रहा है। लाॅकडाउन का सबसे बुरा असर पर्यटन व्यवसाय पर पड़ा है। उत्तराखंड में सैर-सपाटे के लिए   पहुंचे करीब 4000 पर्यटक लॉकडाउन के चलते फंस गए हैं। ये लोग अपने घर नहीं जा पा रहे हैैं।आवाजाही पूरी तरह से प्रतिबंधित होने के कारण पर्यटक वापस नहीं लौट पा रहे हैं। इस वक्त हरिद्वार में करीब दो हजार गुजराती पर्यटक और पौड़ी जनपद के अंतर्गत स्वर्गआश्रम और उसके आसपास के क्षेत्रों में 1200 विदेशी पर्यटक फंसे हुए हैं। यह हाल सिर्फ उत्तराखंड का ही नहीं है, बल्कि देश के हर राज्य में पर्यटकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
ज्ञात हो कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए देश भर में 14 अप्रैल तक  तक प्रदेश में लॉकडाउन घोषित किया है। इस दौरान कुछ आवश्यक सेवाओं को छोड़ कर बाकी किसी भी व्यक्ति के एक शहर से दूसरे शहर जाने पर रोक है। लॉकडाउन के दौरान न तो बाहर से कोई व्यक्ति प्रदेश में आ सकता है और न ही प्रदेश के भीतर एक क्षेत्र से दूसरे क्षेत्र में आवाजाही कर सकता है। विदेशी और देशी पर्यटकों को किसी प्रकार की परेशानी न हो। इसके लिए सरकार ने निर्देश दिए हैं कि पहले से होटलों में रुके पर्यटकों को जबरन न हटाया जाए और उनके साथ अच्छा व्यवहार करें।
  प्रदेश के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा है कि उत्तराखंड समेत देश के अन्य राज्यों में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन किया गया है। प्रदेश के विभिन्न स्थानों पर करीब चार हजार से अधिक देशी व विदेशी पर्यटक  रुके हुए हैं। फिलहाल, उन्हें प्रदेश में रहने दिया जाएगा। महाराज ने कहा है कि पर्यटकों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं आने दी जाएगी। साथ ही उन्होंने विदेशी पर्यटकों से अपील की है कि वे अपने दूतावासों से संपर्क करें।