Home उत्तराखंड लापरवाही: यात्रियों को ले जा रही  रोडवेज की बस जलकर खाक, दस...

लापरवाही: यात्रियों को ले जा रही  रोडवेज की बस जलकर खाक, दस दिनों में पांचवी घटना

70
0

देहरादून- रोजाना हजारों यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने वाली उत्तराखंड परिवहन निगम की बसें न केवल सुरक्षा मानकों को ताक पर रखकर दौड़ रहीं हैं, बल्कि  ज़्यादातर बसें अपनी उम्र की सीमा भी पार कर चुकी हैं। यही वजह है कि उत्तराखंड रोडवेज की बसें तकनीकी खामियों के चलते आए दिन हादसों का शिकार हो रही हैं। शुक्रवार को भी इसका एक नमूना तब देखने को मिला जब रोडवेज की एक और बस जलकर खाक हो गई। पिछले दस दिनों में इस तरह की यह पांचवीं घटना है। इस बार हादसे का शिकार शुक्रवार शाम रुड़की डिपो की बस हुई जो देहरादून से 45 सवारियों को लेकर रुड़की जा रही थी। गनीमत रही कि वक्त रहते बस में सवार सभी यात्री सकुशल बाहर निकल आए। रोडवेज प्रबंध निदेशक रणवीर सिंह चौहान ने मामले की जांच के आदेश जारी कर तकनीकी जांच टीम घटनास्थल रवाना कर दी है।
घटना शुक्रवार देर शाम देहरादून-दिल्ली हाईवे पर भगवानपुर में हुई। बस देहरादून से 45 सवारियों को लेकर रुड़की के लिए निकली थी। रुड़की से कुछ किमी पहले भगवानपुर में खानपुर तिराहे के पास बस से अचानक धुआं निकलने लगा और तभी इससे आग लग गई। जिससे यात्रियों में चीख-पुकार और भगदड़ मच गई। चालक नरेन्द्र त्यागी व परिचालक अजय सैनी ने तत्काल बस को किनारे रोक लिया और सभी यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला। हालांकि, बस के साथ-साथ कुछ यात्रियों का सामान जलकर खाक हो गया। सूचना पर भगवानपुर थाना पुलिस दमकल की गाड़ियों समेत वहां पहुंची और आग पर काबू पाया। इस दौरान हाइवे पर जाम लगा रहा। यात्रियों को दूसरी बस में बैठाकर रुड़की तक पहुंचाया गया।
यात्रियों की सुरक्षा पर सवाल
  गत एक मार्च को देहरादून-हरिद्वार मार्ग पर रोडवेज की जेएनएनयूआरएम डिपो की बस हरिद्वार हाईवे पर नेपाली फार्म के पास जलकर खाक हो गई थी। इसमें सवार 46 यात्रियों ने जैसे-तैसे जलती बस से कूदकर जान बचाई थी। इसके अगले ही दिन यानी दो मार्च को देहरादून से मसूरी जा रही पर्वतीय डिपो की साधारण बस कुठालगेट के समीप आग का शिकार हो गई थी। यहां भी आग लगी हुई बस में बैठे 35 यात्रियों ने कूदकर जान बचाई थी। इन दोनों घटनाओं से एक हफ्ते पहले ऋषिकेश के भोगपुर में चलती बस में आग लग गई थी, जबकि काशीपुर में बस अड्डे पर खड़ी बस जलकर खाक हो गई थी। अब शुक्रवार को रुड़की डिपो की बस आग का शिकार बन गई। लगातार पांच बसों में आग लगने की घटना से बसों में यात्रियों की सुरक्षा पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। स्थिति ये है कि इनमें तीन बसें छह दिन के भीतर जली हैं। प्रबंध निदेशक रणवीर सिंह चौहान ने बताया कि घटना में जांच कराई जा रही है। अगर किसी स्टॉफ की लापरवाही पाई जाती है तो कार्रवाई की जाएगी।
175 बसों के संचालन पर रोक
  दस दिन में पांच बसों में आग लगने की घटनाओं के बाद रोडवेज मुख्यालय ने सूबे में कंडम हो 175 बसों के संचालन पर रोक लगा दी है। प्रबंध निदेशक रणवीर सिंह चौहान की ओर से शुक्रवार देर शाम इसके आदेश जारी कर दिए गए। प्रबंध निदेशक चौहान ने कहा कि यात्रियों की सुरक्षा सर्वोपरी है और इस बारे में कोई समझौता नहीं किया जा सकता।
  रोडवेज में मौजूदा हालात में करीब 300 बसें आयु सीमा पार कर चुकी हैं। इनमें से 175 बसें तो लचर हालात में हैं फिर भी इन्हें जबरन सड़कों पर दौड़ाया जा रहा है। इन खटारा बसों की लिस्ट पिछले साल ही बन चुकी थी और नीलामी होनी थी, लेकिन मामला नई बसों के गियर लीवर टूटने की वजह से लटक गया।
  प्रबंध निदेशक रणवीर सिंह चौहान ने बताया कि जब अक्टूबर में टाटा कंपनी से 150 बसों की आपूर्ति हुई थी, तभी 175 पुरानी बसों की नीलामी के आदेश दे दिए गए थे। मगर टाटा की नई बसों के गियर लीवर टूटने की शिकायत और बसें वापस कंपनी को जाने से पुरानी बसों की नीलामी नहीं हुई। इसके साथ ही अशोका लेलैंड की बसें भी समय पर नहीं मिलीं। प्रबंध निदेशक ने बताया कि टाटा से सभी 150 बसें अगले हफ्ते वापस मिल जाएंगी और इसी माह लेलैंड की शेष बसें भी पहुंच जाएंगी। ऐसे में 31 मार्च तक 300 नई बसें मार्गों पर दौड़ने लगेंगी। चूंकि, पुरानी बसों में लगातार तकनीकी दिक्कतें आ रहीं हैं, ऐसे में 175 बसों का संचालन रोकने के आदेश दे दिए गए हैं।
नई बसों में अलार्मिंग सिस्टम
  रोडवेज अधिकारियों के मुताबिक पुरानी बसों में फायर डिटेक्शन अलार्म सिस्टम है ही नहीं। ऐसे में चालकों को चलती बस में आग जैसी घटनाओं का तभी पता चलता है जब धुआं उठने लगे। नई बसों में अलार्मिंग सिस्टम लगा है। यह दस सेकंड के भीतर ही आग की सूचना दे देता है, ताकि समय से यात्रियों को सुरक्षित किया जा सके।
रोडवेज चालक-परिचालकों के लिए मंगाए मास्क
 इधर, कोरोना वायरस का खौफ रोडवेज बसों में भी नजर आने लगा है। दिल्ली, गुरूग्राम व फरीदाबाद समेत आगरा, जयपुर आदि जाने वाली बसों में चालक-परिचालक ड्यूटी से बच रहे हैं। ऐसे में प्रबंध निदेशक ने दिल्ली रूट व लंबी दूरी की सभी बसों में चालकों एवं परिचालकों के लिए मास्क खरीदने का आदेश दिया है।