Home उत्तराखंड शर्मनाक: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने नेता प्रतिपक्ष इंदिरा पर की...

शर्मनाक: भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने नेता प्रतिपक्ष इंदिरा पर की अभद्र टिप्पणी,कांग्रेस में उबाल

64
0

संवाददाता
देहरादून, 5 जनवरी।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत की जुबान फिर से फिसल गई। इस बार उनके निशाने पर नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश आई हैं। भगत द्वारा नेता प्रतिपक्ष को बुढ़िया कहते हुए उनका जमकर मज़ाक उड़ाया जा रहा है।
जानकारी के मुताबिक वायरल हो रहा बयान भीमताल की एक सभा का है। जिसमें कार्यकर्ताओ को संबोधित करते हुए बंशीधर भगत ने नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के उस बयान पर पलटवार किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि भाजपा के कई विधायक उनके संपर्क में हैं। इस पर भाजपा अध्यक्ष प्रदेश बंशीधर भगत ने कहा कि ‘अरे बुढ़िया तेरे से कौन संपर्क करेगा’।

कमाल की बात तो यह थी कि जैसे ही भाजपा अध्यक्ष बंशीधर भगत ने एक महिला और कांग्रेस की वरिष्ठ नेता पर इस तरह की अभद्र टिप्पणी की तो पूरा मंच और सामने बैठे कार्यकर्ता ठहाके मारते हुए हंसते दिखाई दिये। इस दौरान मंच पर महिलाएं भी मौजूद थीं।

वहीं भगत के इस बयान से कांग्रेस में उबाल है। कांग्रेस ने भगत के बयान की निंदा करते हुए इसे बीजेपी का चाल, चरित्र और चेहरा करार दिया है।

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस नेत्री और पूर्व प्रदेश प्रवक्ता गरिमा मेहरा दसौनी ने भगत के  बयान को उनका ओछापन और भाजपा के अहंकार का प्रतीक बताते  हुए उनके बयान पर ऐतराज जताया है। दसौनी ने कहा कि भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने ना नेता प्रतिपक्ष के पद की गरिमा का लिहाज रखा, ना एक महिला होने का, ना उम्र का और ना ही इंदिरा के राजनीतिक अनुभव का। भगत की इस टिप्पणी की घोर निंदा करते हुए दसौनी ने भाजपा के शीर्ष नेतृत्व से बंशीधर भगत  को निष्कासित करने की मांग की।
वहीं महानगर कांग्रेस ने भी बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के बयान की निंदा करते हुए पुतला दहन का एलान किया है। महानगर कांग्रेस अध्यक्ष लाल चंद शर्मा ने कहा कि जिस तरह से बंशीधर भगत ने नेता प्रतिपक्ष और बुजुर्ग महिला नेत्री पर अमर्यादित टिप्पणी की है उससे भाजपा और उसके नेताओं की महिला विरोधी मानसिकता का साफ पता लगता है। इसके विरोध में कल महानगर और महिला कांग्रेस बंशीधर भगत का पुतला दहन करेगी।साथ ही उन्होंने चेताया कि अगर बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने सार्वजनिक रूप से इंदिरा से माफी न मांगी तो ये विरोध और उग्र होगा।