Home उत्तराखंड सफलताः रूद्रप्रयाग का बेटा बना परमाणु वैज्ञानिक

सफलताः रूद्रप्रयाग का बेटा बना परमाणु वैज्ञानिक

61
0

संवाददाता
रूद्रप्रयाग, 7 जनवरी।

रूद्रप्रयाग के क्यूंजा घाटी के कंडारा गांव निवासी मयंक रावत की सफलता से उत्तराखण्ड का नाम एक बार फिर से देश के फलक पर चमका है। मयंक रावत का इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र (प्ळब्।त्) कलपक्कम, चेन्नई में परमाणु वैज्ञानिक के पद पर चयन हुआ हैै। मयंक की इस सफलता से पूरे क्षेत्र में खुशी की लहर है। वर्तमान में वह आईआईटी मद्रास से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे हैं।
मयंक रावत के पिता पौड़ी जिले में सीईओ (जिला शिक्षाधिकारी) कार्यालय में मुख्य प्रशासनिक अधिकारी के पद पर तैनात हैं। उनका नाम विजयपाल सिंह रावत है। मयंक की मां का नाम कमला रावत है। मयंक ने साल 2012 में केवी अगस्त्यमुनि से हाईस्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण की। इसके बाद उन्होंने नवोदय विद्यालय जाखधार से इंटरमीडिएट की पढ़ाई साल 2014 में पूरी की। साल 2015 में मयंक रावत ने एनआईआटी श्रीनगर गढ़वाल में बीटेक में प्रवेश लेते हुए मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की। विगत वर्ष उन्होंने आईआईटी मद्रास में एमटेक में प्रवेश लिया। अब मयंक का चयन इंदिरा गांधी परमाणु अनुसंधान केंद्र कलपक्कम चेन्नई में परमाणु वैज्ञानिक के पद पर हुआ है।