Home Home सख्ती: पीआरडी जवानों के हाथ में रहेगी हुड़दंगियों की लगाम

सख्ती: पीआरडी जवानों के हाथ में रहेगी हुड़दंगियों की लगाम

172
0

हर की पैड़ी पर तैनात किए गये 75 पीआरडी जवान

संवाददाता

हरिद्वार,11 जुलाई।

हरकीपैड़ी क्षेत्र में आए दिन हो रहे हुड़दंग व तीर्थ की गरिमा विरुद्ध आचरण को रोकने के लिए अब जिला प्रशासन भी सक्रिय हो गया है।जिला प्रशासन ने इसके लिए पुलिस को 75 पीआरडी जवान उपलब्ध कराए हैं। जो हरकीपैड़ी पर पुलिस के निर्देशन में रहते हुए ऐसी घटनाओं की रोकथाम के लिए मुस्तैद रहेंगे।

विश्व प्रसिद्ध धर्म स्थल पर आए दिन हो रही हुक्केबाजी, शोरशराबा, नशा करने व अश्लील गानों पर नृत्य जैसी घटनाओं को जिला प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। जिसके बाद जिलाधिकारी सी, रविशंकर के निर्दैशों पर रविवार को अपर जिलाधिकारी के.के. मिश्र की अध्यक्षता में सीसीआर में एक बैठक हुई।बैठक में हरकीपैड़ी पर इस तरह की बढ़ रही घटनाओं की रोकथाम पर विचार किया गया।जिसमें तय हुआ कि हरकीपैड़ी पर तीर्थानुरुप आचरण व हुड़दंग की घटनाओं को रोकने के लिए यहां पीआरडी जवानों को तैनात किया जाएगा। इसके लिए जिला प्रशासन की ओर से 75 पीआरडी जवान हरकीपैड़ी पर दो पालियों में तैनात किये जाएंगे। यह जवान पुलिस के निर्देशन में रहते हुए हरकीपैड़ी व आसपास के घाटों पर ऐसी घटनाओं पर निगाह रखेंगे तथा श्रद्धालुओं को तीर्थ की गरिमानुरुप आचरण के लिए प्रेरित करेंगे। इसके लिए पीआरडी जवानों को हरकीपैड़ी पर ले जाकर संक्षिप्त प्रशिक्षण भी दिया गया। हरकीपैड़ी की प्रबंधकारिणी गंगासभा ने इसके जिला प्रशासन के प्रति आभार व्यक्त किया है।अध्यक्ष प्रदीप झा ने कहा सावन माह तक आमतौर पर ऐसी घटनाएं होती हैं। जिससे गलत संदेश जाता है।उन्होंने कहा गंगासभा ऐसी घटनाओं की रोकथाम में जिला प्रशासन के साथ पूरा सहयोग करेगी।उल्लेखनीय है कि लॉकडाऊन में ढील मिलते ही हरिद्वार में भीड़ बढ़ी है।गर्मियों में प्रायः मौजमस्ती करनेवाले लोग भी हरिद्वार पहुंचते हैं। हरकीपैड़ी पर रोज ऐसे लोगों द्वारा हुड़दंग की घटनाएं सामने आ रही हैं। पुलिस ऐसे दो दर्जन से अधिक लोगों के खिलाफ चालानी कार्रवाई कर चुकी है।लेकिन ऐसी घटनाएं रुक नहीं रही हैं।

तीर्थ की मर्यादा बनाए रखना जरूरी: के.के.मिश्र

अपर जिलाधिकारी, हरिद्वार के.के.मिश्र का कहना है कि हरिद्वार में देश-विदेश से श्रद्धालु आते हैं।इस पवित्र तीर्थ स्थल पर तीर्थ की गरिमा के अनुसार ही आचरण हो व हुड़दंग की घटनाओं की रोकथाम हो,इसके लिए जिलाधिकारी के निर्देश पर 75 पीआरडी जवान उपलब्ध कराए गये हैं।जो ऐसी घटनाओं की रोकथाम के लिए पुलिस के साथ मिलकर काम करेंगे।