Home उत्तराखंड संरक्षण: सड़कों पर घूम रही लावारिस नाबालिग की मददगार बनी महिला चीता...

संरक्षण: सड़कों पर घूम रही लावारिस नाबालिग की मददगार बनी महिला चीता मोबाइल 

249
0
प्रतीकात्मक फोटो

संवाददाता
देहरादून, 03 जून। शहर की सड़कों पर लावारिस हालत में घूम रही एक नाबालिग किशोरी को दून पुलिस की महिला चीता मोबाइल समय पर सहारा न देती वह कभी भी किसी जघन्य वारदात का शिकार बन सकती थी।  पुलिस ने उसे फिलहाल एक सामाजिक संस्था की सुपुर्दगी में दे दिया है। दरअसल, गुरुवार को महिला चीता मोबाइल 11 चौकी बिंदाल, थाना कैंट, चकराता रोड पर ड्यूटी  पर थे। तभी आने जाने वाले लोगों ने बताया कि एक लड़की बिंदाल पुल के पास खड़ी है, जो आए दिन बिंदाल पुल व आसपास सड़कों में घूमती रहती देखी गई है। उसे रात के समय भी सड़कों पर घूमते हुए देखा गया है। बताया गया कि वह लोगों से पैसे मांगती रहती है। वह कहीं बाहर की रहने वाली है तथा इस करोना काल में भी इधर-उधर घूमते हुए देखा गया है। लोगों ने बताया कि उसकी उम्र बहुत कम है। लड़की का मामला है, जिसे देखकर लगता है कि कहीं बाहर से आई हुई है। उसका कोई परिवार     वाला या देखरेख करने वाला कोई नहीं लगता है। लोगों ने आशंका जताई कि  उसके साथ भी कोई आपराधिक वारदात हो सकती है।

इस सूचना पर चीता 11 महिला कर्मचारी गण बिंदाल पुल तिवारी नर्सिंग होम वाली गली के पास पहुंचे तो वहां एक लड़की मिली, जो  अपनी उम्र 15 वर्ष के आसपास बता रही थी। उसने बताया कि माता-पिता का आपस में झगड़ा होने, पिता के नशे का आदी होने और ऐसे माहौल में रोजाना झगड़े होने के कारण उसके माता-पिता उसे छोड़कर बिहार चले गए हैं। किशोरी ने बताया  कि माता-पिता उसे बताकर नहीं गए हैं। बिहार गए हैं कि कहीं और जगह चले गए हैं, उसे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है। उसने बताया कि वे लोग बस्ती में नदी किनारे रहते थे लेकिन अब कोई ठिकाना नहीं है। उसने बताया कि वह बस्ती के आसपास जहां पर भी आसरा मिलता है , लोगों से मांग कर जीवन चला रही है। किशोरी को बिहार में अपने गांव का पता एवं जाने का रास्ता मालूम नहीं है।  लड़की  अपनी उम्र 15 वर्ष के आसपास बता रही थी, जो नाबालिग है। पुलिस का कहना था कि इस दशा में सुरक्षा के दृष्टिगत लड़की का  बाहर घूमना उचित नहीं था । लिहाजा, लड़की के निकट भविष्य को देखते हुए सुरक्षा के दृष्टिगत उसे चौकी लाकर डायल 1098 पर कॉल की गई तथा दीगर कार्यवाही और मेडिकल जांच कराने के बाद नाबालिग लड़की को माउंटेन चिल्ड्रंस फाउंडेशन देहरादून में प्रवास के लिए दाखिल कर दिया गया ।