Home उत्तराखंड हड़कंप: पोती को बचाने नदी में कूदी दादी, दोनों लापता

हड़कंप: पोती को बचाने नदी में कूदी दादी, दोनों लापता

146
0

संवाददाता

पिथौरागढ़, 14 मार्च।

पिथौरागढ़ जिले में एक आठ साल की बच्ची काली नदी में गिर गई। उसे नदी में गिरता देख उसकी 52 वर्षीय दादी ने भी नदी में छलांग लगा दी। दादी और पोती दोनों ही नदी के तेज बहाव में बह गए। ये दोनों गांव के किसी बच्चे के जनेऊ संस्कार में शामिल होने के लिए लाटेश्वर मंदिर पहुंचे हुए थे। वहीं एसडीआरएफ की टीम दोनों की तलाश में जुटी हुई है।
जानकारी के अनुसार रविवार की दोपहर झूलाघाट से करीब छह किमी दूर सीमू के लाटेश्वर मंदिर के निकट यह घटना घटी। इस मंदिर में स्थानीय किशोरों का उपनयन संस्कार होता है। रविवार को भी गांव के एक किशोर का यहां पर जनेऊ संस्कार था।
इसमें भाग लेने तारा देवी (52) पत्नी खड़क सिंह रावत अपनी पोती लतिका (8) पुत्री सुरेश सिंह रावत के साथ गई थी। इसी दौरान लतिका को प्यास लगी तो करीब एक बजे के वह पानी पीने के लिए अपनी दादी तारा देवी के साथ काली नदी किनारे गई। पानी पीने के दौरान लतिका का पांव फिसल गया और वह नदी में गिर पड़ी। उसे बहते देख दादी तारा देवी ने बचाने के लिए काली नदी में कूद मार दी और वह भी नदी के तेज बहाव में बह गई।
कार्यक्रम स्‍थल पर लोगों को इसकी खबर लगी तो मौके पर भीड़ जुट गई। सूचना झूलाघाट थाने को दी गई। सूचना मिलते ही पुलिस दल के साथ एसएसबी चौकी से जवान भी पहुंचे। थानाध्यक्ष तारा सिंह राणा ने बताया कि एसडीआरएफ की टीम को भी बुलाया गया है। दोनों की खोज जारी है लेकिन उनका का पता नहीं चल सका है।