Home अपराध एसटीएफ ने दबोचा कुख्यात का साथी, केडी घायल होने बावजूद फरार

एसटीएफ ने दबोचा कुख्यात का साथी, केडी घायल होने बावजूद फरार

229
0

संवाददाता
देहरादून, 27 दिसंबर।

ट्रिपल मर्डर सहित कई अपराधों में इनामी केडी मुठभेड़ के दौरान गोली लगने से घायल हो गया है। वहीं पुलिस ने उसके एक साथी को धर दबोचा ही।
राज्य एसटीएफ के उत्तरप्रदेश बिजनोर के चांदपुर में  हुई बड़ी मुठभेड़ में एसटीएफ व केडी गिरोह के मध्य हुई मुठभेड़ में एसटीएफ ने केडी का साथी परमजीत अरेस्ट कर लिया है। देर रात फॉयरिंग के बाद कॉम्बिंग में परमजीत अरेस्ट हुआ है। 20 हज़ार का इनामी केडी अभी फरार है जिसकी तलाश उत्तरप्रदेश व राज्य एसटीएफ कर रही है। एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने इस गिरफ्तारी की पुष्टि है। अजय सिंह ने बताया कि राज्य एसटीएफ केडी की तलाश में कॉम्बिंग कर रही है। परमजीत के पास से एक पिस्टल व एक देशी असलहा भी मिला है।

कुख्यात को लगी है गोली

उधमसिंह नगर से 20 हजार का इनामी घोषित केडी को मुठभेड़ में बदमाश को गोली लगने की सूचना है। इसके बावजूद वह फरार हो गया। जिस गाड़ी में कुख्यात सवार था पुलिस को उसमें खून लगा मिला है। बदमाश पर विभिन्न थानों में हत्या सहित करीब 11 मुकदमें दर्ज हैं।
पुलिस के मुताबिक मुठभेड़ उत्तर प्रदेश के चांदपुर बिजनौर में हुई। कुलदीप सिह उर्फ केडी पुत्र स्वरुप सिह निवासी ग्राम मुडिया मनी थाना बाजपुर उधमसिह नगर पर आसपास के इलाको में फिरौती वसुलने के आरोप हैं। साथ ही वह वर्ष 2012 के ट्रिपल मर्डर के केस मे पैरोल पर छूटने के बाद से फरार चल रहा है।
बताया जा रहा है कि शनिवार की देर शाम उसके कुछ साथियों के साथ स्विप्ट कार से उधमसिंह नगर की तरफ आने की सूचना मिली। इस पर एसटीएफ और पुलिस पार्टी ने उसकी घेराबंदी की तो बदमाशों ने पार्टी पर फायरिंग कर दी। जवाबी कार्रवाई मे एक गोली इनामी बदमाश कुलदीप सिह उर्फ केडी को लगी है।
अंधेरा होने के कारण वह और उसके साथी पास के गन्ने के खेतों मे भाग गए। इस पर एसटीएफ ने बिजनौर के एसएसपी डॉ. धर्मवीर सिह के साथ सूचना का आदान-प्रदान किया गया। तत्कालीन आदेश पर चाँदपुर व आस-पास की पुलिस फोर्स व एसपी सिटी व क्षेत्राधिकारी बिजनौर के निर्देशो पर संयुक्त टीम बनाते हुए बदमाशों की तलाश में कांबिंग की जा र ही है। केडी के साथी परमजीत को एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया। उससे एक पिस्तौल, एक कंट्री मेड तमंचा और एक दर्जन कारतूस बरामद किए गए।
तीन लोगों की निर्मम हत्या का आरोप है केडी पर

पुलिस के मुताबिक कुलदीप पर 2012 में उधमसिह नगर के काशीपुर के ग्राम बासखेडा में तीन व्यक्तियो की निर्मम हत्या का आरोप है। वर्ष 2005 में उसने गैग के अन्य 04 सदस्यो के साथ मिलकर खटीमा क्षेत्र में फिरौती के लिए अपहरण किया। पैरोल पर फरार होने के बाद वर्ष मार्च 2020 में अपनी कार से चैकिंग के दौरान पुलिस पार्टी को जान से मारने का प्रयास किया गया। जून 2020 में थाना बाजपुर क्षेत्र में कुलदीप सिंह व उसके 04 साथियो पर मुकदमा दर्ज है। पैरोल पर फरार होने के बाद भी उस पर जान से मारने की नियत से पुलभट्टा क्षेत्र में भी मुकदमा दर्ज है।