Home उत्तराखंड  दहशत: बेटे के सामने बुजुर्ग को उठा ले गया गुलदार, पंडिताई का...

 दहशत: बेटे के सामने बुजुर्ग को उठा ले गया गुलदार, पंडिताई का काम करता था मृतक

275
0

संंवाददाता
 अल्मोड़ा, 08 मार्च।

उत्तराखंड में आदमखोर जंगली जानवरों के हाथों मारा जाना लोगों की नियति बनती जा रही है। ख़ासतौर पर पहाड़ी क्षेत्रों में आए दिन कोई न कोई अभागा खूंखार वन्य पशुओं का शिकार बन जाता है। ताज़ा घटना अल्मोड़ा  जिले के ताड़ीखेत ब्लॉक में घटी। यहां बेटे के साथ घर लौट रहे एक बुजुर्ग पर गांव के समीप ही एक गुलदार ने  हमला कर दिया। वह बुजुर्ग को बेटे से सामने ही गर्दन से पकड़कर उठा ले गया।

सूचना पर ग्रामीण एकत्र हुए और शोर मचाया तो गुलदार उसे जंगल के किनारे छोड़कर भाग निकला। गुलदार के जबड़े में काफी देर तक कैद रहने, ज्यादा खून बहने और दम घुटने से बुजुर्ग की मौत हो गई। यहां मिली जानकारी के अनुसार, घटना चमड़खान क्षेत्र के टाना रैली गांव का है। गांव निवासी 60 वर्षीय रमेश दत्त पंत उर्फ रघुवर  रविवार शाम बड़े बेटे प्रकाश के साथ रानीखेत बाजार से घर लौट रहा था। रात करीब आठ बजे घर के निकट ही घात लगाए बैठे गुलदार ने अचानक उस पर हमला कर दिया।
पिता पर अचानक हुए हमले में प्रकाश घबरा गया। जबकि बुजुर्ग खुद को नहीं संभाल सका और जमीन पर गिर गया। इस पर गुलदार उसे गर्दन से पकड़कर घसीसटा हुआ जंगल की ओर ले गया। बेटे के शोर मचाने पर ग्रामीण मौके पर पहुंचे और जिस रास्ते गुलदार गया, वहां डंडे लेकर पीछा किया।
जंगल में करीब पांच सौ मीटर आगे गदेरे (बरसाती नाला) के निकट गुलदार बुजुर्ग को  छोड़ कर भाग गया। जब तक ग्रामीण मौके पर पहुंचे तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। वन क्षेत्राधिकारी हरीश टम्टा व राजस्व उपनिरीक्षक प्रदीप कुमार देर रात टीम लेकर घटनास्थल पर पहुंचे। इस घटना के बाद क्षेेेत्र में कोहराम मचा है। स्थानीय ग्रामीण रमेश सिंह खाती ने बताया कि गुलदार अब तक कई मवेशियों को शिकार बना चुका है। ग्रामीणों द्वारा वन विभाग कोो इलाक़े में गुलदार की  मौजूदगी  की सूचना दी गई थी लेकिन विभाग ने कोई ध्यान नहीं दिया।