Home उत्तराखंड श्रमदानः सरकार से नाराज ग्रामीण खुद ही जुटे तीन किमी सड़क...

श्रमदानः सरकार से नाराज ग्रामीण खुद ही जुटे तीन किमी सड़क बनाने में

212
0

कालीमाटी, सेरा, तेवाखर्क के ग्रामीणों ने सरकार को दिखाया आइना
क्षेत्रीय विधायक व जिला प्रशासन ने अभी तक नहीं ली कोई सुध
संवाददाता
गैरसैंण, 01 फरवरी।

सरकार और स्थानीय प्रशासन की उपेक्षा खामियाजा दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रें के लोगों को उठाना पड़ रहा है। इन क्षेत्रों में सड़क बनाने की मांग के बावजूद उपेक्षा हुई तो लोगों का सब्र जवाब देने लगा और ग्रामीण खुद ही श्रमदान कर सड़क बनाने में जुट गये। ऐसा ही कुछ चमोली के गैरसैंण विकासऽण्ड के अंतर्गत आने वाले गांव मालकोट- कालीमाटी-सेरा-तेवाखर्क में हो रहा है। यहां के ग्रामीण तीन किलोमीटर मोटर मार्ग के निर्माण के लिए श्रमदान कर रहे हैं। यहां तक कि स्कूली बच्चों ने भी सड़क बनाने में योगदान दिया।

इस क्षेत्र के लोगों में क्षेत्रीय विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी के िऽलाफ गुस्सा फूट रहा है। लोगों का कहना है कि केवल वोट मांगने के लिए विधायक यहां आते हैं और जीतने के बाद इन क्षेत्रों का रूख तक नहीं करते हैं। क्षेत्रीय विधायक की उदासीनता के चलते ग्रामीणों में व्यापक रोष बना हुआ है। ग्रामीणों ने गैरसैंण भराड़ीसैंण में होने वाले बजट सत्र में विधानसभा घेराव का ऐलान किया है।
यहां पिछले सात दिनों से मोटर मार्ग निर्माण के लिए गांव की महिलाएं, पुरूष, बुजुर्ग सभी अपनी क्षमता के अनुसार लगातार श्रमदान में जुटे हुए हैं। इतना कष्ट सहते हुए भी ग्रामीणों में सड़क बनाने को लेकर उत्साह दिऽाई दे रहा है। इस दौरान आस-पास के गांवों के महिला मंगल दल से जुडी हुई महिलायें भी श्रमदान में लगातार जुड़ रही हैं।
वहीं बीते रोज श्रमदान करने आये छात्रें का कहना था कि सड़क नहीं होने के कारण स्कूल आने जाने में ही उनका काफी समय बर्बाद होता है। अगर सड़क बन जाए तो आवाजाही में भी सुविधा होगी और स्कूली बच्चों का समय भी बचेगा। वहीं ग्रामीणों ने क्षेत्रीय विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी की कार्य प्रणाली पर प्रश्न चिन्ह लगाते हुए कहा कि केवल वोट लेने के लिए गांव में आते हैं। तब बड़े-बड़े वायदे करते हैं लेकिन जब सड़क बनाने की मांग की गई तो उन्होंने यहां का रूख तक नहीं किया।
इस अवसर पर ग्रामवासियों ने कहा है कि चाहे जो भी श्रमदान करके सड़क का निर्माण किया जायेगा। सड़क निर्माण में कितना भी समय लगे वह किसी भी दशा में पीछे नहीं हटेंगें। ग्रामवासियों का कहना है कि क्षेत्रीय विधायक का निवास भी गैरसैंण विकासऽंड के पास ही है लेकिन वह एक दिन भी झांकने तक नहीं आये और लगातार क्षेत्रीय विधायक पर दवाब बनाते रहे लेकिन क्षेत्रीय विधायक की उदासीनता के चलते हुए इस ओर आगे की कार्यवाही नहीं की गई है जो चिंता का विषय है।
ग्रामवासियों ने बताया कि लगातार कर्णप्रयाग विधानसभा के क्षेत्रीय विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी, जिलाधिकारी एवं लोनिवि अधिशासी अभियंता गैरसैंण को अवगत कराये जाने के बाद अब तक मोटर मार्ग निर्माण कार्य के लिए किसी भी प्रकार की कोई शुरूआत नहीं की गई। मोटर मार्ग की द्वितीय चरण आंगणन रूपये 212-86 लाऽ वित्तीय स्वीकृति आज तक नहीं मिल पाई है। ग्रामवासियों ने कहा है कि ग्राम सभा में यातायात सुविधा न होने के फलस्वरूप अधिकांश ग्रामीण शहरी क्षेत्रें की ओर पलायन करने को विवश हैं,जबकि राज्य सरकार की प्राथमिकताओं में अधिक से अधिक जनता को मूलभूत सुविधाऐं उपलब्ध कराते हुए मजबूरी में पलायन रोकने का प्रयास किया जाना प्राथमिकताओं में शामिल होती है, लेकिन यहां पर इन सबकी अनदेऽी की गई है।
इस अवसर पर श्रमदान के सातवें दिन मुन्नी देवी, मधानी राम, दानी राम, जमन सिंह, गब्बर राम, सोबन राम, ममता, शुला देवी, राकेश कुमार, जशोदा देवी, पार्वती देवी, नरेंद्र सिंह, लवली, भोला, दयाल सिंह बिष्ट आदि शामिल रहे।