Home उत्तराखंड दुखदः लड्डू समझ कर खा लिया बारूद का गोला, दर्दनाक मौत

दुखदः लड्डू समझ कर खा लिया बारूद का गोला, दर्दनाक मौत

116
0

प्रतीकात्मक फोटो

संवाददता
साहिबगंज, 7 जनवरी।

बारूद के गोले को लड्डू समझकर खाने से एक आदमी और कुत्ते की मौत हो गई। यह घटना झारखंड के साहिबगंज जिले के बोरियो थाना क्षेत्र की दुर्गा टोला पंचायत के तेतरिया पहाड़ की है।
यहां रहने वाला 36 वर्षीय गुली पहाड़िया ने खेतों की सुअरों से सुरक्षा के लिए उनको मारने वाले बारूद के गोले लेकर घर जा रहा था। रास्ते में बारूद के गोले को लड्डू समझकर खा लिया। जैसे ही उसने उसे चबाया कि विस्फोट हो गया और उसका जबड़ा फट गया। मौके पर ही उसकी मौत हो गई। इस घटना में एक कुत्ते की भी मौत हो गई। गुली ने बारूद का एक गोला कुत्ते को भी खिला दिया था।

शराब के नशे में खाया बारूद का गोला

इस घटना के संबंध में बोरियो थाना प्रभारी लव कुमार सिंह ने बताया कि गुली शनिवार को बोरियो हाट से झोले में जंगली सुअर मारने वाला बारूदी गोला लेकर आ रहा था। इससे फसल की सुअर से रखवाली होती है। बोरियो हाट से 20 किमी टेंपो में सफर कर वह रात में तेतरिया पहाड़ पहुंचा। उस समय वह नशा किए था। नशे में ही वह बारूद के गोले को लड्डू समझ कर खा गया। एक गोला उसने एक कुत्ते को भी खिला दिया। दोनों की मौत हो गई। गुली के झोले में बारूद के कुछ और गोले भी मिले।

जंगली सुअर से फसल को बचाने के लिए किया जाता है इस्तेमाल

बारूद का गोला बनाने के लिए बारूद के साथ शीशे व मांस के टुकड़े मिलाए जाते हैं। इसे खेत के बीच में रखा जाता है। जब जंगली सुअर खेत में आता है तो मांस की गंध से इसके पास आता है और खा लेता है। इससे उसकी मौत हो जाती है। इस तरह फसल की रक्षा की जाती है। साथ ही जंगली सुअर का मांस भी खाने के लिए मिल जाता है।