Home उत्तराखंड सर्द मौसमः हंस फाउंडेशन ने बद्रीनाथ के तीर्थ पुरोहितों के लिए भेजे...

सर्द मौसमः हंस फाउंडेशन ने बद्रीनाथ के तीर्थ पुरोहितों के लिए भेजे ट्रेक सूट व कंबल

195
0

संवाददता
जोशीमठ, 4 नवंबर
बद्रीनाथ धाम में इन दिनों तापमान शून्य से नीचे चला गया है। बर्फबारी के बाद से बद्रीनाथ और केदारनाथ में कड़ाके की ठंड पड़ रही है। चारों धामों के आस—पास की पहाड़ियों पर बर्फबारी शुरू हो गई है।
बर्फबारी के बाद बदरीनाथ में ठंड बहुत बढ़ गई है। रात में तो बाबा बद्री विशाल के दरबार में तापमान शून्य से नीचे पहुंच रहा है। हाड़ कंपाने वाली ठंड से बद्री विशाल में रह रहे लोगों तीर्थ पुरोहितों/ व्यापारियों और श्रद्धालुओं को कई दिक्कतों का सामान भी करना पड़ रहा है। लेकिन पर्यटकों की बढ़ती संख्या से चारधाम में व्यापार करने वाले व्यापारियों के चेहरे खिले हुए हैं।
बद्रीनाथ धाम में तापमान गिरने से काफी ठंड हो रही है। ऐसे में तीर्थ पुरोहितों को इस ठंड से लड़ने के लिए हंस फाउंडेशन के संस्थापक माता मंगला एवं भोले महाराज ने ट्रेक सूट, कंबल और शॉल भेंट स्वरूप पहुंचाए हैं।
बद्रीनाथ धाम के तीर्थ पुरोहितों ने माता मंगला एवं भोले महाराज का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि उत्तराखंड में धीरे—धीरे ठंड का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। उत्तराखंड के चारों धामों की ऊंची पहाड़ियों में बर्फबारी शुरू हो गई है। जिसके चलते इन धामों में हाड़ कंपाने वाली ठंड पड़ रही है। ऐसे में बाबा बद्री विशाल के दरबार में हमारे साथ छोटी—छोटी व्यवस्या कर अपना जीवन यापन कर रहे व्यापारी और उनके सहयोगियों को इस कड़ाके की ठंड से बचने के लिए हंस फाउंडेशन ने यह भागीरथ सहोयग किया है।
माता मगंला एवं भोले महाराज ने इस मुश्किल समय में तीर्थ पुरोहितों और बदरीनाथ धाम से जुड़े तमाम सेवकों को यह भेंट पहुंचा कर हमारे सेवा कार्यों में तो सहयोग किया ही हैं, साथ ही हमें अपने सेवाओं को विस्तार करने का अवसर भी प्रदान किया है। हम बाबा केदार और बाबा बद्री विशाल जी से माता मंगला जी एवं भोले महाराज के स्वस्थ और दीर्घायु जीवन की कामना करते हैं
यह भी पढ़ें
कोविड—19 संक्रमण के चलते बड़ी संख्या में प्रवासी उत्तराखंडी पहाड़ लौटे है। इन लोगों के लिए हंस फाउंडेशन द्वारा 25 करोड़ रुपये की राशि प्रदान कीए जिसके माध्यम से पहाड़ लौटे प्रवासियों को स्वरोजगार उपलब्ध करवाने में मदद की जाएगी। इसी के साथ राज्य में लगभग 200 गांव में आंगनबाड़ी केंद्रों का निर्माण किया जाना है। जिनकी लागत लगभग 30 करोड़ रुपये है।
इसी के साथ उत्तराखंड के चार धाम सहित देश भर के देवालयों में माता मंगला के जन्मोत्सव पर तीर्थ पुरोहितों, सेवकों, गरीब एवं जरूरतमंद लोगों को कंबल, शॉल, ट्रेक सूट, मास्क और सेनेटाइजर प्रदान किया गया।