Home उत्तराखंड वसंतोत्सव 2021: राजभवन में 13-14 मार्च को करिए मनमोहक फूलों का दीदार

वसंतोत्सव 2021: राजभवन में 13-14 मार्च को करिए मनमोहक फूलों का दीदार

190
0

संवाददाता

  देहरादून 25 फरवरी।

राजभवन देहरादून में हर वर्ष आयोजित होने वाली पुष्प प्रदर्शनी वसंतोत्सव इस वर्ष 13-14 मार्च, 2021 को आयोजित होगी। यह निर्णय राजभवन में गुरूवार को राज्यपाल बेबी रानी मौर्य की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया। राज्यपाल मौर्य द्वारा इस प्रदर्शनी का उद्घाटन प्रातः 9 बजे किया जायेगा और प्रातः 11 बजे से आम जनता के लिए प्रदर्शनी खोल दी जायेगी। पुष्प प्रदर्शनी में गत वर्षों की भांति इस वर्ष भी उत्तराखण्ड की विशिष्ट वनस्पति/जैव प्रजाति पर पोस्टल कवर जारी करने का निर्णय लिया गया। उल्लेखनीय है कि गत वर्ष कोविड-19 के कारण पुष्प प्रदर्शनी आयोजित नहीं की गई थी।

राज्यपाल  मौर्य ने पुष्प प्रदर्शिनी में बच्चों के लिए दो घण्टे आरक्षित करने के निर्देश दिये। इनमें गरीब, वंचित वर्ग के बच्चों को विशेष रूप से आमंत्रित किया जायेगा। बच्चो के लिए आरक्षित दिन और समय की सूचना अलग से दी जायेगी। राज्यपाल ने कहा कि प्रदर्शनी पुष्प उत्पादकों के लिये अधिक उपयोगी बनायी जाय। इंडोर प्लांट, हर्बल और एरोमैटिक प्लांट की नई कैटेगरी भी प्रदर्शित की जाय। महत्वपूर्ण पौधों/जड़ी बूटियों का विवरण एवं उनका उपयोग भी डिस्प्ले पर रखा जाय। कोविड-19 से जुड़ी सभी सावधानियां बरती जाय। प्रवेश द्वार पर थर्मल स्कैनिंग, सैनेटाइजर एवं मास्क की पूरी सुविधा हो। रेडक्रास के द्वारा पर्याप्त संख्या में स्वयंसेवक तैनात किये जाय, जो सोशल डिस्टैसिंग सुनिश्चित करायेंगे। दिव्यांग लोगो के लिये पर्याप्त संख्या में व्हील चेयर्स रखने के भी निर्देश दिये गये। महिला स्वयं सहायता समूहों के स्टॉल को प्राथमिकता दी जाय। फूड स्टॉल में सिर्फ पैक्ड फूड ही रखे जाये। संस्कृति विभाग को उत्तराखण्ड की लोक कला एवं संस्कृति पर आधारित गुणवत्ता युक्त कार्यक्रम निर्धारित करने के निर्देश दिये।

इस वर्ष जरबेरा, कारनेशन, ग्लैडियलस, अगापैन्थस, आर्किड, मैरीगोल्ड, लिली, क्रिसेन्थेमस, ट्यूलिप, आदि पुष्प प्रमुखता से प्रदर्शन में रहेंगे। प्रतियोगिता श्रेणी में कट फ्लावर, पॉटेड प्लाण्ट, लूज फ्लॉवर, हैंगिंग पॉट, ऑन स्पॉट फोटोग्राफी, फ्रेश पीटल रंगोली, स्कूली बच्चों के लिये चित्रकला प्रतियोगिता आदि प्रमुख है। बैठक में सचिव उद्यान हरबंश चुघ, अपर सचिव राज्यपाल जितेन्द्र सोनकर, निदेशक उद्यान डॉ. एच.एस.बावेजा सहित उद्यान एवं संबंधित विभागों व संस्थानों के अधिकारी उपस्थित थे।