Home उत्तराखंड देहरादून में कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने निकाली तिरंगा यात्रा

देहरादून में कृषि कानूनों के विरोध में किसानों ने निकाली तिरंगा यात्रा

245
0

संवाददाता
देहरादून, 26 जनवरी।
कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान समन्वय समिति के तत्वावधान में तिरंगा मार्च निकालकर बाबा साहेब अम्बेडकर की मूर्ति पर माल्यार्पण किया गया।
राजधानी में संयुक्त किसान समन्वय समिति के तत्वावधान में तिरंगा मार्च निकालकर बाबा साहेब अम्बेडकर की मूर्ति पर माल्यार्पण किया गया। साथ ही देश की एकता व अखण्डता की शपथ ली गई। गणतंत्र दिवस के अवसर पर समन्वय समिति के बैनर तले किसान, मजदूरों, छात्र, युवा, महिलाएं तिरंगा मार्च में शामिल हुईं।

कार्यकर्ता राजपुर रोड स्थित सीपीएम कार्यालय पर एकत्रित हुए तथा तिरंगा मार्च निकालते हुए राजपुर रोड, घंटाघर होते हुऐ अंबेडकर पार्क पहुंचे। यहां बाबा अंबेडकर की मूर्ति पर माल्यार्पण करते हुए देश की एकता व अखण्डता की शपथ ली। इसके बाद जलूस वापस गांधी पार्क होता हुआ राजपुर रोड़ कार्यालय के बाहर पहुंचकर सभा में परिवर्तित हुआ।
इस अवसर पर वक्ताओं ने मोदी सरकार की जनविरोधी, किसान मजदूर विरोधी नीतियों की कडे़ शब्दों में निन्दा करते हुऐ कहा है कि मोदी सरकार के रहते हुए देश सुरक्षित नहीं है। इसलिए इस सरकार के खिलाफ सतत संघर्ष चलाया जाना जरूरी है। यह सरकार सत्ता में रहने लायक नहीं है। इस अवसर पर किसानों के आन्दोलन के साथ एकजुटता प्रदर्शित की गई।
प्रदर्शनकारियों में किसान सभा के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह सजवाण, महामंत्री गंगाधर नौटियाल, कोषाध्यक्ष शिवपप्रसाद देवली, जिला महामंत्री कमरूद्दीन, किशन गुनियाल, महामंत्री लेखराज, महिला समिति महामंत्री दमयंती नेगी, उमा नौटियाल, नुरैशा, एसएफआई अध्यक्ष नितिन मलेठा, चित्रा गुप्ता, जानकी चौहान, रजनी गुलेरिया, शिवा दुबे, एस एस रजवार, एस एस नेगी, राजेंद्र पुरोहित, अनन्त आकाश, भगवन्त पयाल, रविन्द्र नौडियाल, देवानन्द नौटियाल, शैलेंद्र परमार, के पी चन्दोला, रामराज, अमर बहादुर शाही, यू एन बलूनी दयाकृष्ण आदि थे।